समाचार
दिल्ली की हवा फिर प्रदूषित, तय मानकों से प्रदूषण का स्तर दो गुना अधिक पहुँचा
आईएएनएस - 17th October 2019

दिल्ली में प्रदूषण का स्तर बुधवार दोपहर में तय और सुरक्षित मानकों से दो गुना अधिक पाया गया था। वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआई) 309 था। विशेषज्ञों का कहना है, “राजधानी की हवा में प्रदूषण के स्तर को आगे बिगड़ने से बचाने के लिए अधिकारियों को सभी उत्सर्जन स्रोतों के खिलाफ जल्द कार्रवाई करनी चाहिए।”

सिस्टम ऑफ एयर क्वालिटी एंड वेदर फोरकास्टिंग एंड रिसर्च (सफर) के अनुसार, दिल्ली के एक्यूआई में गिरावट अक्टूबर के चौथे सप्ताह से शुरू हो सकती है। वहीं, जैसे ही एक्यूआई ने 300 का आँकड़ा पार किया, वैसे ही यह इस सीजन में पहली बार बेहद खराब श्रेणी में आ गया, जो सुरक्षित मानक से दो गुना अधिक था।

बुधवार को पीएम 2.5 बेहद खराब स्तर पर रहा। यह तेजी से 131 की श्रेणी में पहुँच गया। सेंटर फॉर साइंस एंड एनवायरनमेंट (सीएसई) के एयर पॉल्यूशन कंट्रोल यूनिट के प्रोग्राम मैनेजर विवेक चट्टोपाध्याय ने कहा, “मौसम के स्थिर रहने से हवा की गुणवत्ता तेजी से बिगड़ रही है। यह प्रति घंटे के आधार पर खराब श्रेणी में पहुँच गई है।”

सीपीसीबी के निगरानी पोर्टल के अनुसार, बुधवार दोपहर में पीएम 2.5 का औसत 134.6 माइक्रोग्राम प्रति क्यूबिक मीटर था, जो कि 24 घंटे के सुरक्षित स्तर (60 माइक्रोग्राम प्रति घन मीटर) से करीब दो गुना अधिक है। उन्होंने कहा, “आगे इसमें गिरावट लाने के लिए अधिकारियों को सभी उत्सर्जन स्रोतों पर अपनी कार्रवाई तेज करनी चाहिए।”

उत्तर भारत में हवा की गुणवत्ता के लिए देर से मानसून की वापसी अच्छी नहीं है क्योंकि समय सर्दियों की ओर बढ़ता है। सफर ने कहा, “अक्टूबर के चौथे सप्ताह के दौरान तापमान में गिरावट देखी जाएगी।”