समाचार
“पुलिस प्रशिक्षण से मिली बंदूक ताने खड़े उपद्रवी का सामना करने की हिम्मत”- दीपक

उत्तर-पूर्वी दिल्ली में सांप्रदायिक दंगों के दौरान दिल्ली में पुलिस के हेड कांस्टेबल दीपक दहिया पर उपद्रवी शाहरुख ने बंदूक तान दी थी। इसके बाद दीपक की दिलेरी वाली तस्वीर खूब वायरल हुई। अब बहादुर दीपक ने बताया कि उन्होंने बंदूकधारी को किस तरह नियंत्रित किया, जो उन्हें गोली मारने के इरादे से आया था।

आईएएनएस से बात करते हुए दहिया ने बताया, “मुझे आपातकालीन ड्यूटी पर सोमवार (24 फरवरी) को उत्तर-पूर्वी दिल्ली में तैनात किया गया था। मेरा प्रशिक्षण वजीराबाद दिल्ली पुलिस प्रशिक्षण केंद्र में चल रहा है। मैं 2012 में दिल्ली पुलिस में सिपाही के रूप में भर्ती हुआ था।”

हरियाणा के सोनीपत के दहिया ने कहा, “मेरे पिता तटरक्षक बल में तैनात हैं। मेरे एक भाई भी दिल्ली पुलिस में हैं।”

उन्होंने आगे कहा, “जिस दिन उत्तर-पूर्वी दिल्ली में सांप्रदायिक हिंसा भड़की थी, तब मुझे अपने प्रशिक्षण केंद्र से आपातकालीन ड्यूटी के लिए बुलाया गया था। अचानक मैरून रंग की टी-शर्ट में एक व्यक्ति मेरे पास आया और मुझे गोली मारने की धमकी देने लगा। वो मुझे गोली मार सकता था लेकिन मैं घबराया नहीं।”

दीपक दहिया ने कहा, “वह मुझ पर गोली चला सकता था लेकिन मैंने अपना डंडा उसे दिखाया और चेतावनी दी कि अगर उसने ऐसा किया तो मैं उस पर हमला कर दूंगा। मैं उसके सामने खड़ा रहा और उससे बंदूक नीचे करने को कहा। मेरी हिम्मत की वजह से वो वहाँ से हटा और हवा में फायरिंग करते हुए चला गया। ”

उन्होंने कहा, “यह हिम्मत मुझे पुलिस प्रशिक्षण के दौरान मिली थी। इस वजह से मैं उस उपद्रवी का सामना कर सका।” बाद में सीसीटीवी फुटेज के जरिए दहिया पर बंदूक तानने वाले शख्स की पहचान शाहरुख के रूप में हुई है। हालाँकि, उसे अभी तक पुलिस गिरफ्तार नहीं कर पाई है।