समाचार
तीस हज़ारी विवाद- पुलिसकर्मियों का सड़क पर प्रदर्शन, पुलिस कमिश्नर ने कराया शांत

दिल्ली की तीस हज़ारी अदालत के बाहर शनिवार (2 नवंबर) को पुलिस और वकीलों की कार पार्किंग को लेकर हुई भिड़ंत का मामला गर्माता जा रहा है। मंगलवार को सैकड़ों पुलिसवालों ने पुलिस मुख्यालय के बाहर प्रदर्शन किया। उनको शांत करवाने के लिए पुलिस कमिश्नर अमूल पटनायक को आना पड़ा।

हिंदुस्तान लाइव की रिपोर्ट के अनुसार, पुलिस कमिश्नर ने कहा, “सरकार और जनता की तरफ से हमसे काफी उम्मीदें और अपेक्षाएँ हैं। हमें कानून व्यवस्था को बनाकर रखना है। यह हमारी प्रतीक्षा, परीक्षा और अपेक्षा की घड़ी है। मामले की न्यायिक जाँच हो रही है। पुलिसकर्मी अपनी ड्यूटी पर जाएँ। हमें एक अनुशासित बल की तरह काम करना है।”

उधर, तीस हज़ारी अदालत के वकील पवन ने पुलिसकर्मियों पर करीब 150 चैंबरों में तोड़फोड़ और महिला अधिवक्ताओं से बदसलूकी का आरोप लगाया है। उन्होंने कहा, “पुलिस ने अदालत के अंदर घुसकर मारपीट और तोड़फोड़ की। चैंबर में बैठी महिलाओं से बदतमीज़ी की।” जाँच में बार एसोसिएशन के अंदर कई चैंबरों के दरवाजे और खिड़कियों के शीशे टूटे पाए गए हैं। पवन ने आरोपी पुलिसकर्मियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग की है।

बता दें कि 2 नवंबर की दोपहर को न्यायालय के बाहर कार पार्किंग को लेकर पुलिसकर्मी और वकील के बीच झड़प हो गई थी। इसके बाद दोनों पक्षों के बीच बवाल बढ़ गया। वकीलों के पुलिसकर्मियों पर हावी होते देख काफी संख्या में सुरक्षाबल को बुला लिया गया। पुलिस बस भरकर वकीलों को अपने साथ ले गई थी।