समाचार
दिल्ली दंगों में बदला लेने के लिए बने वॉट्सैप ग्रुप ने बढ़ाया सांप्रदायिक वैमनस्य- पुलिस

उत्तर-पूर्वी दिल्ली दंगों के दौरान बनाए गए वॉट्सैप ग्रुप ‘कट्टर हिंदू एकता’ ने लोगों के बीच सांप्रदायिक वैमनस्य बढ़ाया था। यह दावा दिल्ली पुलिस ने दंगा मामले में दाखिल एक पूरक आरोप पत्र में किया है।

अमर उजाला की रिपोर्ट के अनुसार, कड़कड़डूमा न्यायालय में यह पूरक आरोप पत्र 26 सितंबर को दाखिल किया गया था। दिल्ली पुलिस ने इसमें ग्रुप के चैट के उन हिस्सों को पेश किया है, जिनमें मजहबी अपशब्द, प्रार्थना स्थलों को तोड़ना और समुदाय विशेष के लोगों से मारपीट करने की बात थी।

दिल्ली पुलिस के अनुसार, यह वॉट्सैप ग्रुप 25 फरवरी को समुदाय विशेष से बदला लेने के लिए बनाया गया था। इसके सदस्य ने कहा था कि उनकी मदद के लिए एक बड़ा धार्मिक संगठन भी आ गया था।

पूरक आरोप-पत्र गोकुलपुरी क्षेत्र में हाशिम अली की हत्या के सिलसिले में नौ लोगों के खिलाफ दाखिल किया गया है। इसके अनुसार वॉट्सैप ग्रुप में समुदाय विशेष के लोगों को सबक सिखाने, हाशिम अली तथा उसके भाई आमिर अली समेत नौ लोगों की हत्या के लिए लाठी डंडों, तलवार, असलहे से खुद को लैस किया था।

इस मामले में लोकेश कुमार सोलंकी, पंकज शर्मा, सुमित चौधरी, अंकित चौधरी, प्रिंस, जतिन शर्मा, विवेक पांचाल, ऋषभ चौधरी, हिमांशु ठाकुर आरोपी हैं और ये सब न्यायिक हिरासत में हैं।