समाचार
पीओके के सामाजिक कार्यकर्ता ने क्षेत्र से उतारा पाकिस्तानी झंडा, मिल रहीं धमकियाँ

कश्मीर के एक हिस्से पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर (पीओके) पर अवैध कब्ज़ा जमाए बैठे पाकिस्तान को वहाँ के नागरिक चुनौती दे रहे हैं। ददयाल क्षेत्र में पाकिस्तानी झंडे को हटाए जाने की मांग को लेकर एक सामजिक कार्यकर्ता भूख हड़ताल पर बैठ गया। उसने देश का झंडा उतार दिया, जिसके बाद पाकिस्तानी सुरक्षाकर्मियों ने उसके साथ बुरा बर्ताव किया। अब उसे लगातार धमकियाँ मिल रही हैं।

हिंदुस्तान लाइव की रिपोर्ट के अनुसार, सामाजिक कार्यकर्ता व पत्रकार तनवरी अहमद अपनी मांग को लेकर कई दिनों से भूख हड़ताल पर बैठे थे। उनकी मांग थी कि क्षेत्र के सभी पाकिस्तानी झंडों और चिह्नों को वहाँ से हटा लिया जाए। उन्होंने पोल पर चढ़कर झंडे को निकाल दिया था।

इसके बाद पाकिस्तानी सुरक्षाकर्मियों ने उनके साथ दुर्व्यवहार किया और घसीटते हुए उन्हें ले गए। इस घटना के बाद से तनवरी को लगातार धमकियाँ मिल रही हैं। उनका आरोप है कि सुरक्षा एजेंसियों के लोग उनका लगातार पीछा कर रहे हैं।

तनवरी ने 20 अगस्त को सोशल मीडिया पर लिखा था, “ददयाल प्रशासन ने विदेशी चिह्नों को हटाने के लिए 48 घंटे मांगे थे लेकिन पाकिस्तानी एजेंसियों को बायपास करने की उनमें ताकत नहीं है।” कई वर्षों से पीओके के निवासी पाकिस्तान के क्षेत्र पर अवैध कब्जे का विरोध कर रहे हैं। हालाँकि, उन्हें इस विरोध के बदले सुरक्षाकर्मियों के जुल्मों का सामना करना पड़ता है।