समाचार
बिहार- नाबालिग से छेड़खानी पर न्यायालय ने आरोपियों को दिया माफी मांगने का दंड

चौंकाने वाले निर्णय में दरभंगा के एक न्यायालय ने एक नाबालिग लड़की से छेड़छाड़ के मामले में तीन आरोपियों को जमानत दे दी। विशेष न्यायाधीश संजय अग्रवाल की अदालत ने आरोपियों को लगातार 15 दिनों तक हर दिन लड़की से माफी मांगने का निर्देश दिया है।

न्यायाधीश संजय अग्रवाल ने आरोपियों को 17 दिसंबर तक अस्थाई बेल पर रिहा करने का भी आदेश दिया। इसमें प्रत्येक को 10-10 हज़ार रुपये का जुर्माना भरने को कहा है। आश्चर्यजनक रूप से न्यायाधीश ने आरोपियों को क्रमशः आठ और सात दिन के लिए कमतौल में राम शृंगारी कन्या हाई स्कूल और जेएम हाई स्कूल में सामुदायिक सेवा का निर्देश दिया।

अदालत ने राम शृंगारी कन्या विद्यालय के प्रधानाध्यापक को निर्देशित किया कि वह तीन आरोपियों को देखें कि उन्होंने 15 दिनों तक आदेश का अनुपालन किया है या नहीं। आरोपी हशमत खान, एमडी अकबर और एमडी अफजल के रूप में पहचाने गए हैं।

17 नवंबर को तीनों आरोपी कामतौल पुलिस थाने के अठारी गाँव में कोचिंग जा रही नाबालिग को अपने साथ ले गए। उसके साथ उन्होंने बाग में छेड़खानी की। हालाँकि, जब पीड़िता के दोस्त ने शोर मचाया तो ग्रामीण वहाँ पर इकट्ठा होने लगे। यह देखकर आरोपी मौके से भाग निकले। आरोपियों के खिलाफ भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) और यौन अपराधों से बच्चों के संरक्षण (पोस्को) अधिनियम के तहत कई धाराओं में मामला दर्ज किया गया था।