समाचार
प्रधानमंत्री मोदी के मन से उतरीं साध्वी प्रज्ञा, जारी हुआ कारण बताओ नोटिस

महात्मा गांधी और नाथूराम गोडसे को लेकर साध्वी प्रज्ञा व अन्य पार्टी के नेताओं द्वारा दिए गए बयान के बाद भाजपा ने कड़ा रुख अपनाया है। प्रधानमंत्री ने जहाँ इस मामले में साध्वी के दिल से उतरने की बात कही तो वहीं अमित शाह ने उन्हें व अन्य नेताओं को कारण बताओ नोटिस जारी करने की जानकारी दी।

एएनआई की रिपोर्ट के अनुसार, साध्वी प्रज्ञा के सवाल पर अमित शाह ने एक प्रेसवार्ता में कहा, “गोडसे और गांधी पर बयान देने पर उन्हें कारण बताओ नोटिस जारी किया गया है। दस दिन में जवाब आने के बाद अनुशासन समिति इस पर कार्रवाई करेगी। वहीं, इस पर बयान देने वाले अन्य नेताओं को भी नोटिस जारी किया गया है।”

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी इस मसले पर पहले ही अपनी राय देकर असहज की स्थिति से भाजपा को बाहर निकालने में मदद की। उन्होंने कहा, “गांधी या गोडसे पर दिए गए बयान नफरत के लायक हैं। प्रज्ञा ने भले ही माफी माँग ली हो। पार्टी उन्हें माफ भी कर दे लेकिन मैं मन से कभी माफ नहीं कर पाऊँगा।”

प्रेसवार्ता में भाजपा अध्यक्ष ने पार्टी को 17वीं लोकसभा चुनाव में 300 सीटें मिलने का अनुमान जताया। उन्होंने कहा, “भाजपा अपने दम पर सरकार बनाएगी। हम 300 से ज्यादा सीटें हासिल करेंगे। हमें बहुमत का भरोसा है लेकिन नए साथियों के लिए दरवाजे खुले हैं।”

मालूम हो कि प्रज्ञा ने एक रोड शो के दौरान कहा था, “नाथूराम गोडसे देशभक्त थे और रहेंगे। आतंकवादी कहने वाले खुद अपने गिरेबां में झाँककर देखें।” इसके बाद पार्टी में हलचल पैदा हो गई थी। उधर, अनन्त हेगड़े सहित कई नेताओं ने भी इस मामले पर बयान देकर विपक्ष को हमला करने का पूरा मौका दे दिया था। हालांकि, बाद में साध्वी ने इस मामले में माफी माँग ली थी।