समाचार
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश की जनता से किए नौ आग्रह, मांगे उनके कुछ सप्ताह

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोरोनावायरस के बढ़ते प्रकोप के चलते गुरुवार को देश से सीधा संवाद किया। इस दौरान उन्होंने देश की 130 करोड़ जनता से आने वाले उनके कुछ सप्ताह मांगे। उन्होंने कहा, “हर भारतवासी को इससे सतर्क रहना जरूरी है। विज्ञान अभी तक इसकी कोई दवा या टीका नहीं बना पाया है।”

अमर उजाला की रिपोर्ट के अनुसार, कोरोनावायरस से संक्रमित एक और व्यक्ति की गुरुवार को मौत हो गई। इस तरह देश में इससे मरने वालों की संख्या चार हो गई है। स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया, “चौथी मौत पंजाब में हुई। मृतक की पहचान नवांशहर जिले के बंगा शहर में गाँव पठलावा निवासी के रूप में हुई। कुछ दिन पहले वह इटली होते हुए जर्मनी से लौटा था। मृतक के गाँव को सील कर दिया है।”

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नौ आग्रह

  • कुछ सप्ताह तक बहुत जरूरी हो तभी घर से निकलें। हो सके तो काम घर से करें।
  • मैं जनता कर्फ्यू की मांग करता हूं। 22 मार्च रविवार को सुबह 7 से रात 9 बजे तक सभी को जनता कर्फ्यू का पालन करना है। यह हमें आने वाली चुनौतियों के लिए तैयार करेगा।
  • 22 मार्च को शाम 5 बजे ताली या थाली बजाकर, सायरन बजाकर सेवाभावियों का धन्यवाद करें।
  • परिवार के वरिष्ठ नागरिक कुछ सप्ताह तक घर से बाहर न निकलें।
  • कोरोना सेनानियों को सम्मान दें। जो लोग संपन्न हैं, वो खुद के अलावा अपने साथियों का भी ध्यान रखें। उनका वेतन न काटें।
  • अस्पतालों पर अनावश्यक दबाव ना बढ़ाएँ। रुटीन चेकअप के लिए अस्पताल न जाएँ। ऐसी सर्जरी जो आगे बढ़ सकती है, उसे बढ़ा दें।
  • सरकार ने सभी से जानकारी लेने के लिए कोविड-19 टास्क फोर्स बनाई है। ये महामारी के अर्थव्यवस्था पर पड़ने वाले प्रभाव का आंकलन करेगी।
  • घबराकर खरीदारी न करें। दूध और आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति कभी नहीं रुकेगी।