समाचार
चुनाव आयोग को न्यायालय का आदेश, फिल्म ‘पीएम नरेंद्र मोदी’ देखकर लें निर्णय

फिल्म ‘पीएम नरेंद्र मोदी’ पर प्रतिबंध को लेकर सर्वोच्च न्यायाल ने पुनर्विचार करने के लिए चुनाव आयोग को आदेश दिए हैं। न्यायालय ने चुनाव आयोग को कहा है कि आयोग पहले खुद फिल्म देखें और फिर विचार करें कि उस पर प्रतिबंध लगाना चाहिए या नहीं, जागरण  ने रिपोर्ट किया।

न्यायालय ने फिल्म के निर्माताओं द्वारा दायर याचिका पर सुनवाई करते हुए यह आदेश चुनाव आयोग को दिए हैं। न्यायालय ने 22 अप्रैल तक आयोग को फिल्म देखकर अपना जवाब एक सीलबंद लिफ़ाफ़े में डालकर सर्वोच्च न्यायाल को सौंपने के लिए कहा है। चुनाव आयोग द्वारा लगाए प्रतिबंध के बाद फिल्म के निर्माताओं ने सर्वोच्च न्यायाल का दरवाज़ा खटखटाया है।

चुनाव आयोग ने इससे पहले ‘पीएम नरेंद्र मोदी’ सहित दो और ऐसी फिल्मों पर प्रतिबंध लगाया था, जिससे किसी राजनीतिक पार्टी और राजनेता की छवि को फायदा हो। चुनाव आयोग ने अपने बयान में कहा था कि चुनावों के समय पर आयोग किसी भी ऐसी फिल्म को रिलीज़ करने की अनुमति नहीं दे सकता है, जिससे किसी विशेष राजनीतिक पार्टी या राजनेता को फायदा पहुंचे।

‘पीएम नरेंद्र मोदी’ फिल्म के रिलीज़ होने देरी के कारण इस फिल्म में नरेंद्र मोदी का किरदार निभाने वाले अभिनेता विवेक ओबेरॉय ने नाराज़गी जताई है। उन्होंने कहा है कि कुछ बहुत ही शक्तिशाली लोग इस फिल्म को रिलीज़ नहीं होने देना चाहते हैं। विवेक ने कहा कि वे लोग हमें रोक सकते हैं लेकिन हमें फिल्म रिलीज़ करवाने से नहीं रोक पाएंगे।