समाचार
श्रीमद्भगवत् गीता की पांडुलिपि के 11 खंडों का कल दिल्ली में विमोचन करेंगे नरेंद्र मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मंगलवार को शाम 5 बजे नई दिल्ली के लोक कल्याण मार्ग में श्रीमद्भगवत् गीता के श्लोकों पर 21 विद्वानों की व्याख्याओं के साथ पांडुलिपि के 11 खंडों का विमोचन करेंगे।

पांडुलिपि का नाम श्रीमद्भगवत् गीता: मूल हस्तलिपि की विविध बहुल्य संस्कृत व्याख्या रखा गया है। पीएमओ ने जानकारी दी कि जम्मू-कश्मीर के उपराज्यपाल मनोज सिन्हा और हिंदू धर्मशास्त्र के विद्वान, धर्मनाथ ट्रस्ट के ट्रस्टी अध्यक्ष व कांग्रेस नेता डॉ कर्ण सिंह इस मौके पर उपस्थित रहेंगे।

टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के अनुसार, यह पहली बार है जब विद्वानों द्वारा की गई व्याख्या की प्रमुख टिप्पणियों को श्रीमद्भगवद्गीता की व्यापक और तुलनात्मक प्रशंसा प्राप्त करने के लिए एक साथ लाया जा रहा है। इसकी मूल हस्तलिपि में कई दुर्लभ संस्कृत टिप्पणियाँ भगवद्गीता के विमोचन का हिस्सा भी होंगी।

जम्मू स्थित धर्मार्थ ट्रस्ट ने पांडुलिपि को प्रकाशित किया है और इसे असाधारण विविधता और भारतीय सुलेख की सूक्ष्मता के साथ तैयार किया गया है। इसमें शंकर भाष्य से लेकर भाषानुवाद तक को शामिल किया गया है।