समाचार
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सांसदों की उपस्थिती पर नज़र, भाजपा आलाकमान को निर्देश

संसद में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के सांसदों की कम उपस्थिति का संज्ञान लेते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कड़ा रुख अपनाया है। उन्होंने मंगलवार को पार्टी के आलाकमान को निर्देशित किया कि अगर कोई सांसद अपना कर्तव्य नहीं निभा पा रहा है तो उन्हें सूचित किया जाए।

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार, भाजपा संसदीय दल की एक सभा में बोलते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा, “मुझे शाम तक सभी अनुपस्थित मंत्रियों के नाम दिए जाने चाहिए।”

बड़ी संख्या में पहली बार सांसदों की सभा को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा, “पहली छाप ही आपकी छवि निर्मित करती है।” उन्होंने केंद्रीय मंत्रियों से सरकार के प्रतिनिधि के रूप में सदनों में से एक में उपस्थित होकर अपनी संसद रोस्टर ड्यूटी को पूरा करने के लिए भी कहा।

प्रधानमंत्री ने यह भी कहा, “अगर सरकार को विधायी एजेंडा पारित करना ज़रूरी लगता है तो 26 जुलाई को समाप्त होने वाले मानसून सत्र को आगे बढ़ाया जा सकता है।”

प्रधानमंत्री ने सांसदों से अपने निर्वाचन क्षेत्र के विकास में मुख्य भूमिका निभाने के लिए कहा है। उन्होंने सांसदों को अपने कर्तव्यों को पूरा करने के अलावा एक सामाजिक उद्देश्य या मानवीय संवेदनशीलता के मुद्दे को लेकर उसे मिशन के रूप में पूरा करने का सुझाव दिया है।