समाचार
बजट सत्र टालने पर प्रधानमंत्री का तर्क, “अगर वायुसेना, डॉक्टर और पुलिस विराम ले तो?”

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 3 अप्रैल तक चलने वाले बजट सत्र को यह कहकर रद्द करने से टाल दिया है कि जनप्रतिनिधियों को ऐसे समय में अपनी ज़िम्मेदारियों को और ज्यादा बेहतर तरीके से निभाना चाहिए। उन्हें अन्य लोगों से प्रेरणा लेनी चाहिए, जो नियमित रूप से अपना काम कर रहे हैं।

भारत में लगातार कोरोनावायरस के मामले बढ़ रहे हैं। बुधवार सुबह तक 10 नए मामले सामने आ गए हैं। इसके साथ देश में वायरस से पीड़ित होने वाली की संख्या 148 पहुँच गई है। इनमें 123 भारतीय और 25 विदेशी हैं। 148 में से ही 14 ठीक हो चुके हैं, 3 की मौत हो गई है, टाइम्स ऑफ इंडिया  ने रिपोर्ट किया।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, “मैं जो सुन रहा हूँ, वो सही नहीं है। सांसद महामारी के खिलाफ मजबूती से खड़े होते हुए दिखने चाहिए। हमें भारतीय वायुसेना और एयर इंडिया के चालक दल के सदस्यों के बारे में सोचना चाहिए, जो महामारी की चपेट में आए देशों के भारतीयों को निकाल रहे हैं। डॉक्टरों और नर्सों को देखना चाहिए, जो मरीजों का उपचार कर रहे हैं। लोडरों को देखना चाहिए, जो खाली किए गए सामान को संभाल रहे हैं। पुलिस को देखना चाहिए। अगर वह इस समय विराम लेने का निर्णय करते हैं तो क्या होगा?”

रिपोर्ट में कहा गया कि नरेंद्र मोदी ने अन्य सदस्यों को हाथ जोड़कर और नमस्ते के साथ शुभकामनाएँ दीं। उन्होंने पार्टी के सांसदों से अपने निर्वाचन क्षेत्रों में कोरोनावायरस के बारे में जागरूकता फैलाने के लिए कहा।