समाचार
हिंदू संस्कृति को आतंकवाद बताने वाली कांग्रेस के लिए साध्वी एक जवाब हैं- मोदी

साध्वी प्रज्ञा को भोपाल से भाजपा का उम्मीदवार घोषित करने के बाद हिंदू आतंकवाद की कथा गढ़ने पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कांग्रेस को फटकार लगाई है। साथ ही साध्वी को लेकर मीडिया के दोहरे मानकों के रवैये पर भी सवाल खड़े किए हैं।

टाइम्स नाऊ को दिए साक्षात्कार में नरेंद्र मोदी ने कहा, “साध्वी प्रज्ञा को उम्मीदवार बनाया जाना, उन लोगों के लिए सांकेतिक उत्तर है, जो पांच हजार साल पुरानी हिंदू संस्कृति को आतंकवाद से जोड़ते हैं। साध्वी की उम्मीदवारी पर उठ रहे सवाल पर प्रधानमंत्री ने पूछा कि 1984 के सिख विरोधी दंगों के बाद तटस्थ मीडिया ने कभी राजीव गांधी के प्रधानमंत्री बनने पर सवाल क्यों नहीं उठाए?”

सिख विरोधी दंगों की आतंकवाद से तुलना करने पर मोदी ने कहा, “दंगों में शामिल होने वाले आरोपियों को सांसद, कैबिनेट मंत्री और यहां तक कि मध्य प्रदेश का मुख्यमंत्री बनाया गया था।” मोदी ने पूछा, “राजनीतिक उत्थान पर कभी सवाल क्यों नहीं उठाए जाते हैं?”

मोदी ने राहुल और सोनिया गांधी पर निशाना साधते हुए कहा, “जमानत पर बाहर होने वाले उम्मीदवारों में सिर्फ साध्वी को ही क्यों घेरा जा रहा है। अमेठी और रायबरेली के सांसदों से सवाल क्यों नहीं पूछे जा रहे हैं? कांग्रेस एक पटकथा लिखकर उसमें पात्रों को शामिल करके कहानी गढ़ती है। गुजरात में एनकाउंटर, जस्टिस लोया की प्राकृतिक मौत, ईवीएम और नोटबंदी तक को लेकर कांग्रेस ने एक विचित्र कहान गढ़ दी, जिसका कोई आधार नहीं है।

मोदी ने वापस साध्वी प्रज्ञा को लेकर कांग्रेस पर निशाना साधा, “बिना किसी सुबूत के पांच हजार पुरानी महान संस्कृति जो वसुधैव कुटुम्बकम जैसे दर्शन को साबित करती है, उसी को कांग्रेस ने आंतकवादी कह दिया। साध्वी प्रज्ञा की उम्मीदवारी अब कांग्रेस को बहुत भारी पड़ने वाली है।”