समाचार
महात्मा गांधी की 150वीं जयंती से प्लास्टिक मुक्त भारत बनाने का शुरू होगा जन आंदोलन

भारत को प्लास्टिक-मुक्त बनाने के एक बड़े प्रयास में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार (25 अगस्त) को भारत के नागरिकों से महात्मा गांधी की 150वीं जयंती 2 अक्टूबर से एकल-उपयोग प्लास्टिक के खिलाफ एक बड़ा जन आंदोलन शुरू करने का आग्रह किया।

2 अक्टूबर को राष्ट्रपिता  जन्मतिथि है। गांधी जी को भारत और उसके नागरिकों के लिए स्वच्छता के महत्व पर दृढ़ विश्वास था।

एएनआई  की रिपोर्ट के अनुसार, अपने मासिक ‘मन की बात’ रेडियो कार्यक्रम के दौरान घोषणा करते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, “जब हम महात्मा गांधी की 150वीं वर्षगांठ मनाते हैं, तो हम उन्हें न केवल खुले में शौच मुक्त भारत समर्पित करेंगे, बल्कि एक जन-आंदोलन भी शुरू करेंगे। भारत को प्लास्टिक मुक्त बनाना।”

प्रधानमंत्री ने आगे कहा कि इसबार हमारा जोर प्लास्टिक पर होना चाहिए। 15 अगस्त को, मैंने आपसे लाल किले से आग्रह किया था, जिस तरह से एक सौ 25 करोड़ देशवासियों ने पूरे उत्साह और ऊर्जा के साथ स्वच्छता के लिए एक अभियान चलाया और खुले में शौच से मुक्ति की दिशा में अथक प्रयास किया। इसी तरह से हमें एकल-उपयोग वाले प्लास्टिक पर अंकुश लगाने के लिए हाथ मिलाना होगा।

प्रधानमंत्री ने कहा कि देशवासियों को सार्वजनिक स्थानों पर स्वच्छता सुनिश्चित करने के लिए एक मेगा अभियान में खुद को शामिल करना चाहिए। मोदी ने कुपोषण के मुद्दे पर भी बात की और कहा कि सितंबर को देश में ‘पोशन अभियान’ के रूप में मनाया जाएगा।