समाचार
‘गहलोत नहीं पायलट चाहिए’, समर्थन में उतरा गुज्जर समाज, दौसा में प्रदर्शन

मुख्यमंत्री पद की आधिकारिक घोषणा होने से पहले ही राजस्थान के कई क्षेत्रों जैसे अजमेर, करौली और दौसा में गुज्जर समुदाय के लोग मुख्यमंत्री के रूप में सचिन पायलट की माँग को लेकर सड़कों पर उतर आए हैं।

गुज्जर, जिन्होंने इन विधान सभा चुनावों में कांग्रेस को पूरा समर्थन दिया, आशा कर रहे थे कि उनके समुदाय का नेता सचिन पायलट मुख्यमंत्री का पदभार संभालेगा। भाजपा का एक भी गुज्जर प्रत्याशी चुनाव नहीं जीत सका जबकि भाजपा ने नौ ऐसे व्यक्तियों को खड़ा किया था। पायलट को उनके पिता, जो समुदाय में प्रभावशाली नेता थे, की विरासत को आगे ले जाने वाले नेता के रूप में देखा जाता है।

सोनिया, राहुल व प्रियंका गांधी को गंभीर चर्चा में लिप्त रहना पड़ा जब उनके चुने हुए मुख्यमंत्री गहलोत के प्रति विरोध देखा गया। पार्टी वरिष्ठों ने पायलट व गहलोत के समर्थकों को शांत करने का प्रयास किया।

एक गुज्जर प्रभावी क्षेत्र पटौली में, दौसा बस स्थानक पर सैंकड़ों लोग इकट्ठा हो गए और जयपुर-आगरा राजमार्ग को घेर लिया। टाइम्स ऑफ़ इंडिया से सहायक पुलिस महानिदेशक एनआरके रेड्डी ने कहा, “कुछ लोग आग लगाने के लिए टायर ले आए। पुलिस ने स्थान पर पहुँच कर भीड़ को विसर्जित किया। यह हल्ला-गुल्ला 20 मिनट तक चला।”