समाचार
“मुल्लाओं के पास डिग्री नहीं लेकिन वे तब भी सबसे महान् हैं”- तालिबानी शिक्षा मंत्री

तालिबान सरकार के शिक्षा मंत्री शेख मौलवी नूरल्लाह मुनीर ने कहा कि पीएचडी और मास्टर डिग्री मूल्यवान नहीं हैं क्योंकि मुल्लाओं के पास ये नहीं हैं और तब भी वे सबसे महान् हैं।

सोशल मीडिया पर तेज़ी से साझा किए गए एक वीडियो में तालिबान के शिक्षा मंत्री शेख मौलवी नूरल्लाह मुनीर को किसी भी तरह की उच्च शिक्षा के महत्व को कम करते हुए दिखाया गया।

वीडियो में शिक्षा मंत्री को यह कहते सुना जाता है, “कोई पीएचडी मास्टर डिग्री आज मूल्यवान नहीं है। आप देख सकते हैं कि मुल्ला और तालिबान जो सत्ता में है, उनके पास पीएचडी, एमए या हाई स्कूल की डिग्री नहीं है लेकिन वे सबसे महान् हैं।”

नए लिंग प्रारूप का पालन करने वाले अफगानिस्तान में निजी विश्वविद्यालय और उच्च शिक्षा संस्थान फिर से खुल गए हैं। टोलो न्यूज़ ने बताया कि विश्वविद्यालय के छात्र और छात्राओं को अलग-अलग कक्षाओं में पढ़ाया जाएगा। केवल महिला शिक्षकों को ही छात्राओं की कक्षाओं में पढ़ाने की अनुमति होगी।

विश्वविद्यालयों में संयुक्त कक्षाएँ स्वीकार्य नहीं हैं। तालिबान के एक अधिकारी ने कहा, “कुछ विश्वविद्यालय लड़कियों के लिए अलग-अलग भवनों का उपयोग करने में सक्षम हैं। वहीं, कई विश्वविद्यालयों में भवन नहीं हैं। वे छात्राओं को पढ़ाने के लिए कक्षाओं का समय परिवर्तित कर सकते हैं।”

इस बीच, निजी विश्वविद्यालयों और संस्थानों के अधिकारियों ने कहा कि वे मंत्रालय द्वारा आवश्यक नए प्रारूप को लागू करने के इच्छुक हैं। विश्वविद्यालयों में छात्राओं की कम उपस्थिति से अधिकारी चिंतित हैं।

तालिबान ने मुल्ला मोहम्मद हसन अखुंद के नेतृत्व वाली एक कठोर अंतरिम सरकार बनाई है, जिसमें विद्रोही समूह के बड़े सदस्यों द्वारा महत्वपूर्ण भूमिका निभाई जा रही है।