समाचार
पीओके में चीन द्वारा मेगा बांध के निर्माण का लोगों ने मशाल लेकर किया विरोध प्रदर्शन

पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर (पीओके) के मुज़फ्फराबाद में लोगों ने सोमवार (24 अगस्त) रात चीनी कंपनियों द्वारा नीलम-झेलम नदी पर मेगा बांध के निर्माण को लेकर विरोध प्रदर्शन किया। इस दौरान वहाँ के निवासियों ने मशाल लेकर पाकिस्तान के खिलाफ नारेबाजी की।

अमर उजाला की रिपोर्ट के अनुसार, ‘दरिया बचाओ, मुजफ्फराबाद बचाओ’ समिति से आने वाले प्रदर्शनकारियों ने ‘नीलम-झेलम बहने दो, जिंदा रहने दो’ जैसे नारे लगाए। प्रदर्शन का हिस्सा बनने के लिए पीओके के कई हिस्सों से लोग आए थे।

हाल ही में पाकिस्तान और चीन ने पीओके के आजाद पट्टन और कोहला हाइड्रोपावर परियोजनाओं के निर्माण के लिए एक समझौता किया था। चीन-पाकिस्तान आर्थिक गलियारे (सीपीईसी) के हिस्से के रूप में 700.7 मेगावॉट बिजली के लिए आज़ाद पट्टन हाइडल पावर परियोजना पर 6 जुलाई 2020 को हस्ताक्षर हुए थे। 1.54 अरब डॉलर की परियोजनाएँ चीन गेझूबा ग्रुप कंपनी (सीजीजीसी) द्वारा प्रायोजित होंगी।

इस परियोजना के साल 2026 तक पूरा होने की उम्मीद है। इस क्षेत्र में रहने वाले लोग चीनियों की उपस्थिति, बांध के बड़े पैमाने पर निर्माण और नदियों के बहाव मोड़ने से उनके अस्तित्व पर पड़ रहे खतरे को लेकर आक्रोशित हैं। चीन और पाकिस्तान आर्थिक गलियारे के नाम पर पीओके और गिलगित बाल्टिस्तान के प्राकृतिक संसाधनों को संयुक्त रूप से मिलकर लूटने में लगे हैं।