समाचार
मेरठ में पल्स पोलियो टीम को एनपीआर समझकर मारा और बंधक बनाया

मेरठ में शनिवार (25 जनवरी) को लिसाड़ी गेट क्षेत्र में पोलियो दवा पिलाने गई टीम को स्थानीय लोगों ने नेशनल पॉपुलेशन रजिस्टर (एनपीआर) टीम समझकर बंधक बना लिया। यही नहीं, उनके साथ मारपीट की। इस मामले में एक मुस्लिम व्यक्ति समेत अज्ञात लोगों के खिलाफ मामला दर्ज करवाया गया है।

हिंदुस्तान लाइव की रिपोर्ट के अनुसार, पोलियो की दवा पिलाने वाली टीम को लोगों ने कमरे में बंद कर दिया। उनके रजिस्टर फाड़ दिए और वैक्सीन तक छीन लीं। घंटेभर तक हंगामा चलने के बाद स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों ने पहुँचने के बाद टीम को छुड़ाया।

पुलिस के अनुसार, पल्स पोलियो टीम में स्टाफ नर्स नीतू और दीपक के साथ बाकी सदस्य शनिवार सुबह लिसाड़ी गेट के लखीपुरा गली-22 में पोलियो ड्रॉप पिलाने पहुँचे थे। एक घर के लोगों ने दवा पिलाने से मना कर दिया तो टीम ने उनका नाम पूछा। इसके बाद टीम से अभद्र व्यवहार किया गया।

कुछ लोगों ने दीपक से मारपीट करते हुए पोलियो वैक्सीन और सारे दस्तावेज छीन लिए। नर्स नीतू को कमरे में बंद कर दिया। टीम से कहा गया कि वो लोग एनपीआर टीम वाले हैं, उन्हें छोड़ा नहीं जाएगा। भीड़ ने सरकार के खिलाफ नारे लगाए।

पीड़ित टीम के मुताबिक, इमरान नाम के शख्स ने भीड़ को उकसाया था। वह एक स्कूल संचालक है। उसने टीम को जान से मार डालने और शहर में दंगा भड़काने की भी धमकी दी थी। टीम ने कई संगीन धाराओं में इमरान और अज्ञात लोगों के खिलाफ मामला दर्ज करवाया है।