समाचार
भारत को युद्ध की धमकी देने वाले इमरान खान की ‘पहले परमाणु हमला न करने की’ नीति

केंद्र सरकार द्वारा जम्मू-कश्मीर में विशेष राज्य का दर्जा खत्म करने के बाद भारत और पाकिस्तान के बीच तनाव लगातार बढ़ रहा है। इस बीच, अब पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने परमाणु हथियारों का उपयोग न करने की बात कही है। उन्होंने कहा, “इस्लामाबाद कभी भी परमाणु हथियारों का पहले उपयोग नहीं करेगा।”

लाइवमिंट की रिपोर्ट के अनुसार, लाहौर में सिख समुदाए के लोगों को संबोधित करते हुए इमरान खान ने कहा, “हम दोनों परमाणु-हथियार संपन्न देश हैं। अगर ये तनाव बढ़ता है तो दुनिया खतरे में पड़ सकती है। हमारी तरफ से पहले कोई कदम नहीं उठाया जाएगा।”

इमरान खान का बयान उस वक्त आया है, जब वह अनुच्छेद 370 को लेकर भारत पर बार-बार हमला कर रहे हैं। ऐसे में दोनों देशों के बीच युद्ध की आशंका बनी हुई है। हालाँकि, लाहौर में पहले अतर्राष्ट्रीय सिख सम्मेलन के दौरान संबोधन में इमरान खान ने अपने युद्ध के दावों से पीछे हटते हुए कहा, “युद्ध समस्या का समाधान नहीं कर सकता है।”

डॉन की रिपोर्ट के अनुसार, उन्होंने कहा, “मुझे भरोसा नहीं है कि युद्ध किसी भी समस्या को हल कर सकता है। जो भी सोचता है कि यह समझदारी भरा कदम नहीं होगा, फिर उसने विश्व इतिहास नहीं पढ़ा है। यदि आप युद्ध छेड़कर एक समस्या को हल करते हैं, तो उसकी वजह से चार समस्याएँ और खड़ी हो जाती हैं।”