समाचार
कठुआ की अंतर-राष्ट्रीय सीमा पर पकड़ा पाकिस्तानी कबूतर, पैरों में लिखी सांकेतिक भाषा

जम्मू-कश्मीर के कठुआ जिले में भारत-पाकिस्तान अंतर-राष्ट्रीय सीमा से सटे मनियारी गाँव में ग्रामीणों ने एक पाकिस्तानी कबूतर को पकड़ लिया। उसके पैर में सांकेतिक भाषा में कोड बंधा होने के चलते उसे बीएसएफ के अधिकारियों को सौंप दिया गया। मामले की जाँच जारी है।

दैनिक जागरण की रिपोर्ट के अनुसार, एसएसपी शैलेंद्र मिश्रा ने बताया, “हमें नहीं पता यह कहाँ से आया है। स्थानीय ग्रामीणों ने पकड़कर इसे बीएसएफ अधिकारियों के हवाले किया। हमें इसके पैर पर एक अँगूठी मिली, जिस पर कुछ अंक लिखे थे। जाँच चल रही है। संबंधित एजेंसियाँ वर्तमान में इस संदेश को समझने की कोशिश में जुटी हुई हैं।”

गत वर्ष सितंबर में राजस्थान के बीकानेर में पाकिस्तान से सटी अंतर-राष्ट्रीय सीमा के पास सुरक्षा एजेंसियों ने एक कबूतर को पकड़ा था। उनको संदेह था कि कबूतर के जरिए पाकिस्तान भारत के सुरक्षा उपायों में सेंध लगाने की कोशिश में लगा है। इस मामले की कोरोनावायरस की वजह से जाँच पूरी नहीं हो सकी। अब छत्तरगढ़ पुलिस थाने के एक सिपाही विनोद को कबूतर की सुरक्षा व दाना-पानी का प्रबंध करने के लिए तैनात किया गया है।

बता दें कि पहले भी पाकिस्तान जासूसी कबूतरों का उपयोग करता रहा है। यही नहीं, पाकिस्तान की ओर से गैरकानूनी तरीके से ड्रोन, गुब्बारे भारतीय सीमा में भेजे जाते रहे हैं। आईएसआई पहले भी पैरों में कैमरे बाँधकर बाज पश्चिम सीमा से सटे राजस्थान के श्रीगंगानगर, बाड़मेर, जैसलमेर, बीकानेर व जोधपुर जिलों में भेजती रही है।