समाचार
“पाकिस्तान, भारतीय सेना एक जैसी, अपने लोगों को मारती हैं”- सीएए विरोधी तपन बोस

कार्यकर्ता तपन बोस ने जंतर मंतर में नागरिकता संशोधन विधेयक (सीएए) और राष्ट्रीय नागरिक हेतु रजिस्टर (एनआरसी) के खिलाफ बोलते हुए कहा, “पाकिस्तान कोई दुश्मन देश नहीं है, भारत और पाकिस्तान का शासक वर्ग एक जैसा है। हमारी सेनाएँ एक जैसी हैं, उनकी सेना अपने लोगों को मारती है और हमारी सेना हमारे लोगों को मारती है, उनके बीच कोई अंतर नहीं है।”, एएनआई ने बताया।

एएनआई की स्मिता प्रकाश ने एक ट्वीट में बताया कि तपन बोस वही शख्स हैं जिन्होंने कश्मीरी पंडितों के पलायन को लेकर संदेह जताया था और कहा था, “उस रात (1990 में) बड़े पैमाने पर धरना चल रहा था, लोगों को उनके घरों से बाहर आने की अनुमति नहीं थी तो मुझे कोई वास्तविक सबूत नहीं मिला कि वास्तव में क्या हुआ था।”

एक अन्य ट्वीट में प्रसिद्ध पत्रकार कंचन गुप्ता ने कहा कि पाकिस्तान के साथ कारगिल युद्ध के दौरान जब भारतीय सेना पाकिस्तानी घुसपैठियों से छुटकारा पाने की कोशिश कर रही थी तब तपन बोस ने सक्रिय रूप से भारत की सेना के खिलाफ अभियान का नेतृत्व किया और पाकिस्तान सेना के घुसपैठियों को बाहर करा दिया था।