समाचार
चीन से तनाव के बीच पाकिस्तान ने इस वर्ष 3186 बार किया संघर्ष विराम का उल्लंघन

पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा पर चीन अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहा है। दोनों देशों के बीच गतिरोध खत्म करने के लिए बातचीत जारी होने के बावजूद वह पैंगोंग त्सो झील के पास वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर ऑप्टिकल फाइबर केबल बिछा रहा है। उधर, पाकिस्तान लगातार संघर्ष विराम का उल्लंघन कर रहा है। इस वजह से भारत को दो तरफ से युद्ध जैसे हालातों का सामना करना पड़ रहा है।

न्यूज़-18 की रिपोर्ट के अनुसार, रक्षा राज्यमंत्री श्रीपद नाइक ने राज्यसभा में एक लिखित सवाल के जवाब में जानकारी दी कि चीन के अलावा आठ महीने में जम्मू क्षेत्र में एलओसी के करीब पाकिस्तान की ओर से 3186 बार संघर्ष विराम का उल्लंघन किया जा चुका है। एक जनवरी से 31 अगस्त के बीच सीमा पार से गोलीबारी की 242 घटनाएँ हुई हैं।

एक जनवरी से सात सितंबर के बीच जम्मू क्षेत्र में एलओसी के करीब संघर्ष विराम का उल्लंघन की कुल घटनाएँ 3186 बार हुई हैं। सात सितंबर तक जम्मू-कश्मीर में सेना के आठ जवान मारे गए और दो घायल हो गए।

भारतीय अधिकारियों का कहना है कि सबसे बड़ी चिंता यह है कि चीन ने हाई स्पीड संचार कायम करने के लिए ऑप्टिकल फाइबर बिछाई है। वे झील के दक्षिणी हिस्से में केबल बिछाने का काम तेजी से कर रहे हैं। एक माह पूर्व पीएलए ने झील के उत्तरी क्षेत्र में भी केबल बिछाई। सैटेलाइट तस्वीरों में पैंगोंग त्सो झील के दक्षिणी हिस्से की रेत वाली जगहों पर असमान्य लकीरें देखने को मिली हैं।