समाचार
पाकिस्तान बोला, “अयोध्या पर आया फैसला भारतीय मुस्लिमों पर और दबाव बढ़ाएगा”

अयोध्या की विवादित भूमि को लेकर सर्वोच्च न्यायालय के राम मंदिर बनवाने के पक्ष में आए ऐतिहासिक फैसले पर पाकिस्तान ने आपत्ति जताई है। पाकिस्तानी विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने कहा, “करतारपुर कॉरिडोर खोले जाने के खुशी के मौके पर दिखाई गई असंवेदनशीलता से हम बेहद दुखी हैं।”

एनडीटीवी की रिपोर्ट के अनुसार, पाकिस्तानी विदेश मंत्री ने डॉन न्यूज टीवी चैनल के हवाले से कहा, “इस फैसले को क्या थोड़े दिन और नहीं टाला जा सकता था। मैं इस खुशी के मौके पर दिखाई गई असंवेदनशीलता से बेहद दुखी हूँ।” वहीं, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री फवाद हुसैन ने फैसले को शर्मनाक और अनैतिक बताया है।

गलियारे के उद्घाटन पर कुरैशी ने कहा, “भारत को करतारपुर कॉरिडोर से ध्यान भटकाने की बजाए इस खुशी के मौके का हिस्सा बनना चाहिए था। यह विवाद बेहद संवेदनशील था। उसे इस शुभ दिन का हिस्सा नहीं बनाना चाहिए था। ”

उन्होंने आगे कहा, “भारत में वैसे भी मुस्लिम बेहद दबाव में हैं। भारतीय अदालत का अयोध्या को लेकर आया फैसला उन पर और अधिक दबाव बढ़ाएगा। पाकिस्तान इस फैसले को विस्तार से पढ़ने के बाद ही कुछ कहेगा।”

बता दें कि मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली 5 सदस्यीय संविधान पीठ ने 130 साल से चले आ रहे विवाद को खत्म कर दिया। अदालत ने अयोध्या में विवादित स्थल पर राम मंदिर निर्माण का मार्ग प्रशस्त करते हुए केंद्र सरकार को निर्देश दिया कि सुन्नी वक्फ बोर्ड को मस्जिद के निर्माण के लिये 5 एकड़ भूमि आवंटित की जाए।