समाचार
पाकिस्तान ने ड्रोन से पंजाब पहुँचाए हथियार, अमरिंदर सिंह ने केंद्र से मांगी सहायता
आईएएनएस - 25th September 2019

पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने पाकिस्तान द्वारा ड्रोन से राज्य में हथियारों और विस्फोटक पदार्थों को पहुँचाने के मामले में केंद्र सरकार से इस समस्या का हल निकालने की गुजारिश की है।

दो दिन पूर्व पुलिस ने फिर से पनपे खालिस्तान जिंदाबाद बल (केजेडएफ), पाकिस्तान समर्थित और जर्मनी-आधारित आतंकवादी समूह के एक मॉड्यूल का खुलासा किया था। ये पंजाब और उससे सटे राज्यों में आतंकवादी हमलों की साजिश रच रहा था।

पुलिस ने बताया, “सीमा से लगे तरनतारन जिले में छापेमारी में 5 एके -47 राइफल, पिस्तौल, सैटेलाइट फोन और हथगोले सहित भारी मात्रा में हथियार जब्त किए गए।” मुख्यमंत्री ने जाँच एनआईए को सौंपने का निर्णय लिया।

प्रारंभिक जाँच में सीमा पार से हथियार, सैटेलाइट फोन पहुँचाने के लिए ड्रोन के इस्तेमाल की बात सामने आई। पुलिस महानिदेशक दिनकर गुप्ता ने बताया, “हाल ही में सीमा पर पाकिस्तानी प्रतिष्ठान, आईएसआई और राज्य-प्रायोजित जिहादी द्वारा लॉन्च किए ड्रोनों का उपयोग करके हथियारों को भारत पहुँचाया था। प्रो-खालिस्तानी आतंकवादी संगठन उसके इशारे पर काम कर रहे हैं।”

अमृतसर एआईजी (काउंटर इंटेलिजेंस) केतन बलिराम पाटिल ने पुलिस टीम के साथ की छापेमारी में 4 आतंकियों को गिरफ्तार किया था। उन्होंने बताया, “मॉड्यूल को केजेडएफ के पाकिस्तान स्थित प्रमुख रणजीत सिंह और उनके जर्मनी के सहयोगी गुरमीत सिंह ने समर्थन दिया था। उन्होंने पंजाब में आतंकवाद को पुनर्जीवित करने के लिए अपना संगठन फिर से बनाया है।”

गिरफ्तार किए गए लोगों की पहचान बलवंत सिंह, आकाशदीप सिंह, हरभजन सिंह और बलबीर सिंह के रूप में हुई है। आकाशदीप और बलवंत के खिलाफ आपराधिक मामले हैं।

उनके पास से एके-47 राइफल के साथ 16 मैगजीन, 472 राउंड गोला बारूद, 30 बोर की पिस्तौल के साथ मैग्जीन्स, 72 राउंड गोला-बारूद, 9 हैंड ग्रेनेड, 5 थुरया सैटेलाइट फोन और 10 लाख के नकली भारतीय नोट बरामद किए।