समाचार
एफएटीएफ बैठक में अकेला पड़ता दिख रहा है पाकिस्तान, डार्क ग्रे सूची में जा सकता है

पाकिस्तान फ्रांस की राजधानी पेरिस में शुरू हुई वित्तीय कार्रवाई कार्य बल (एफएटीएफ) की बैठक में अलग-थलग पड़ता नज़र आ रहा है। ऐसे में अब पड़ोसी देश को डार्क ग्रे सूची में डालकर उस पर कड़ी कार्रवाई की जा सकती है।

दैनिक जागरण की रिपोर्ट के अनुसार, बैठक में हिस्सा ले रहे अधिकारियों ने बताया, “जैसे संकेत मिल रहे, उसके मुताबिक आतंकियों के खिलाफ पर्याप्त कार्रवाई न करने पर पाकिस्तान को किसी देश का समर्थन नहीं मिलने वाला है। दिए गए 27 बिंदुओं में से सिर्फ छह पर ही उसके द्वारा मामूली कार्रवाई की गई है।”

एफएटीएफ 18 अक्टूबर को पाकिस्तान पर अंतिम फैसला लेगा। ग्रे और काली सूची के बीच में डार्क ग्रे सूची का वर्ग भी होता है। इसका अर्थ होता है आखिरी चेतावनी, ताकि संबंधित देश को सुधार का अंतिम मौका मिल सके।

बता दें कि एफएटीएफ ने पिछले साल जून में पाकिस्तान को ग्रे सूची में डाला था और 27 बिंदुओं पर कार्रवाई करने के लिए इस साल अक्टूबर तक का वक्त दिया था। अगर वह डार्क ग्रे वर्ग में भी आ जाता है तो उसे विश्व बैंक, अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष और यूरोपीय संघ से वित्तीय मदद मिलनी मुश्किल हो जाएगी। पाकिस्तान के अलावा, ईरान और उत्तर कोरिया भी ब्लैक लिस्ट में आने के जोखिम से जूझ रहे हैं।