समाचार
“पाकिस्तान ने लखवी समेत 4,000 आतंकियों के नाम निगरानी सूची से हटाए”- रिपोर्ट

पाकिस्तान ने अपनी निगरानी सूची से लगभग 4,000 आतंकवादियों के नामों को हटा दिया है। इसमें 2008 के मुंबई आतंकवादी हमले का मास्टरमाइंड ज़की-उर-रहमान लखवी भी शामिल है। यह जानकारी अमेरिका के एक आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (एआई) स्टार्टअप ने दी है।

पाकिस्तान द्वारा आतंकियों को धन मुहैया कराने को लेकर वैश्विक निगरानी संस्था फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स (एफएटीएफ) ने उसे काली सूची में डाल रखा है। अब एफएटीएफ को जून में फिर से उसका मूल्याँकन करना है।

न्यूयॉर्क स्थित स्टार्टअप कैस्टेलम, जो सूची को स्वचालित करती है, ने पाया कि गत डेढ़ वर्ष में पाकिस्तान ने बिना किसी स्पष्टीकरण या सूचना के 3,800 नामों को सूची से हटा दिया है।

कैस्टेलम की रिपोर्ट के अनुसार, इमरान खान सरकार ने नौ मार्च के बाद से अपनी आतंकवादी सूची से करीब 1,800 नामों को हटा दिया, जिसमें लश्कर-ए-तैयबा का एक नेता और मुंबई हमलों का कथित मास्टरमाइंड ज़की-उर-रहमान लखवी भी शामिल है।

एफएटीएफ की एक रिपोर्ट के अनुसार, अक्टूबर 2018 में पाकिस्तान की आतंकवादी निगरानी सूची में लगभग 7,600 नाम थे। कैस्टेलमडॉटएआई जो नियमित रूप से नए डाटा स्रोतों का उपयोग करती है, ने मार्च को अपने डाटाबेस में पाकिस्तान के निषिद्ध व्यक्तियों की सूची को जोड़ा था।

नौ से 27 मार्च के बीच कैस्टेलमडॉटएआई के आँकड़ों से जानकारी मिलती है कि पाकिस्तान सरकार ने निषिद्ध व्यक्तियों की सूची में से 1,069 नामों को हटा दिया था। इसके बाद उन सभी नामों को पाकिस्तान की आधिकारिक विमुक्त सूची में देखा गया। 27 मार्च को फिर 800 नामों को हटा दिया गया।

पाकिस्तान की नेशनल काउंटर टेररिज़्म अथॉरिटी (एनएसीटीए) ने नामों को हटाने के लिए कोई स्पष्टीकरण नहीं दिया है। कैस्टेलमडॉटएआई ने यह डाटा वॉल स्ट्रीट जर्नल को दिया है, जिसने इस पर पक्ष जानने के लिए पाकिस्तान सरकार से संपर्क भी किया था।