समाचार
“करतारपुर से पाकिस्तान भारत में शांति-सद्भाव बिगड़ना चाहता है”- पीओके एक्टिविस्ट

ग्लासगो में निर्वासन में रह रहे पीओके सक्रिया कार्यकर्ता अमजद मिर्ज़ा ने कहा है कि करतारपुर गलियारा खोलने के पीछे पाकिस्तान के शैतानी इरादे हैं।

एशियन न्यूज़ इंटरनेशनल (एएनआई) के अनुसार अमजद मिर्जा ने दावा किया है कि करतारपुर गलियारा पाकिस्तान की वैकल्पिक रणनीति का हिस्सा है जिसका मकसद भारत में शांति और सद्भाव के माहौल को बिगाड़ना है क्योंकि दुष्ट देश कश्मीर खोने के बाद से बौखलाया हुआ है।

“पाकिस्तान ने यह निर्णय अब क्यों लिया? 73 साल बाद उन लोगों ने ऐसा क्यों किया? उन्होंने यह कदम इसलिए उठाया है क्योंकि कश्मीर के रास्ते जिस तरह की पाकिस्तान आतंकवादी गतिविधियाँ कर रहा था, अब वह रास्ता बंद हो चुका है। इस कारण पाकिस्तान के हुक्मरानों यानी कि पाकिस्तानी सेना पर से आम लोगों का विश्वास उठ चुका है। इस गलियारे के जरिए पाकिस्तान खालिस्तानी चरमपंथियों को पंजाब में शांति और सद्भाव बिगाड़ने के लिए उपयोग करेगा।”, मिर्ज़ा ने कहा।

बता दें कि इसी महीने करतारपुर गलियारे को लोगों के लिए खोल दिया गया है जिसके बाद सिख श्रद्धालु दरबार साहिब तक बिना किसी वीज़ा के जा सकेंगे।

अमजद मिर्ज़ा ने यह भी बताया कि पाकिस्तान का उद्देश्य भारत के विरुद्ध षड्यंत्र रचना है और करतारपुर लोगों की भलाई के लिए बिल्कुल नहीं है।

मिर्ज़ा ने पूछा, “अगर उन्हें सचमुच लोगों की इतनी परवाह है तो वह लद्दाख और कश्मीर का रास्ता लोगों के लिए क्यों नहीं खोल देते पर वह ऐसा कभी नहीं करेंगे क्योंकि इस निर्णय के बाद दोनों तरफ के लोग आपस में मिलजुल जाएँगे और एक साथ रहेंगे।”