समाचार
ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय की कोविड-19 वैक्सीन मानव परीक्षण में पाई गई सुरक्षित

ब्रिटेन के ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय के वैज्ञानिकों द्वारा कोविड-19 का मुकाबला करने के लिए वैक्सीन के मानव परीक्षण के डाटा से पता चलता है कि यह सुरक्षित है और वयस्क परीक्षण विषयों के बीच मजबूत एंटीबॉडी और टी सेल प्रतिरोधक क्षमता प्रतिक्रियाओं को प्रेरित करती है।

चिकित्सा पत्रिका द लैंसेट की रिपोर्ट के अनुसार, परीक्षण के पहले चरण के परिणाम जो सोमवार (20 जुलाई) को प्रकाशित किए गए थे, उसमें वैक्सीन ने सभी 1,077 में मजबूत एंटीबॉडी और टी सेल प्रतिरक्षा प्रतिक्रियाओं को प्रेरित किया, जिन्होंने इसमें हिस्सा लिया। प्रतिरोधक क्षमता के चल रहे परीक्षण 56 दिन तक चले। अब वयस्कों पर एंडीबॉडी की प्रतिक्रिया दूसरी खुराक के बाद और मजबूत हो सकती है।

वैक्सीन ने किसी भी प्रतिकूल प्रभाव को ट्रिगर नहीं किया। परीक्षण वाले लोगों में ज्यादातर को थकान और सिरदर्द की शिकायत की थी, जिसे पेरासिटामोल लेने से कम किया जा सकता है।

वैक्सीन का नाम सीएचएडीओएक्स1 एनकोविक-19 है, जो आनुवंशिक रूप से इंजीनियर वायरस के माध्यम से विकसित किया गया है, जो चिंपैंजी में आम सर्दी का कारण बनता है।

शोधकर्ताओं ने सलाह दी है कि आगे के अध्ययन में विशेष रूप से वयस्कों को शामिल करने के लिए निर्धारित किया जाना चाहिए कि क्या टीका प्रभावी रूप से संक्रमण से बचाता है या नहीं।