समाचार
भारत में 9.80 करोड़ लोगों को लगा टीका, रूसी वैक्सीन की कीमतों को लेकर चर्चा जारी

भारत में कोरोनावायरस के खिलाफ टीकाकरण अभियान के 84वें दिन शुक्रवार (10 अप्रैल) को 34 लाख से अधिक लोगों का टीकाकरण किया गया। इनको मिलाकर अब तक देश में कुल 9.80 करोड़ से ज्यादा वैक्सीन लगाई जा चुकी हैं।

देश में संक्रमण के बढ़ते मामलों को देखते हुए भारत रूस की स्पुतनिक वी कोविड-19 वैक्सीन के आयातित खुराक की कीमत पर बातचीत करने की प्रक्रिया में है, जो भारत में विनियामक अनुमोदन हासिल करने के लिए अग्रिम चरण में है।

इकोनॉमिक टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, रूसी प्रत्यक्ष निवेश कोष (आरडीआईएफ) ने कई करोड़ टीके के निर्माण के लिए भारतीय फार्मास्युटिकल कंपनियों के साथ करार किया है। योजना शुरुआती दिनों में रूस से खुराक आयात करने की है। घरेलू उत्पादन शुरू होते ही रूसी कोविड-19 वैक्सीन की कीमत घटने की उम्मीद है।

आरडीआईएफ ने हैदराबाद स्थित डॉ रेड्डीज लैबोरेटरीज के साथ करार किया, ताकि एक बार नियामक अनुमोदन प्राप्त होने पर भारत में 10 करोड़ खुराक की आपूर्ति की जा सके। इसके अतिरिक्त आरडीआईएफ ने देश में 85 करोड़ खुराक का उत्पादन करने के लिए हेट्रो बायोफार्मा, ग्लांड फार्मा, स्टेलिस बायोफार्मा और विक्रो बायोटेक के साथ समझौता किया है।

दैनिक जागरण की रिपोर्ट के अनुसार, स्वास्थ्य मंत्रालय की रिपोर्ट में बताया गया कि 9.80 करोड़ से अधिक वैक्सीन अब तक लगाई जा चुकी हैं। इनमें 60 वर्ष से अधिक उम्र के 3.86 करोड़ को पहली और 15.90 लाख लोगों को दूसरी वैक्सीन की खुराक दी गई है। 45 से 59 वर्ष वाले 2.82 करोड़ लोगों को पहला और 5.82 लाख को दूसरा टीका लग चुका है।

मंत्रालय ने बताया कि 84वें दिन 34,15,055 लोगों को टीके लगे। इनमें 30 लाख पहली और 4 लाख से अधिक लोगों को दूसरी बार टीका लगा। गत 24 घंटों में 1,45,384 नए मामले सामने आए हैं, जिसमें 794 लोगों की मौत हो गई है।