समाचार
“अपशिष्ट प्लास्टिक से 703 किमी राष्ट्रीय राजमार्ग बने”- राज्यसभा को गडकरी का उत्तर

केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने सोमवार (19 जुलाई) को राज्यसभा में एक लिखित उत्तर में कहा कि अब तक 703 किलोमीटर लंबे राष्ट्रीय राजमार्गों का निर्माण अपशिष्ट प्लास्टिक का उपयोग करके किया गया।

इंडियन रोड्स कांग्रेस (आईआरसी) ने वियरिंग कोर्स के लिए गर्म बिटुमिनस मिक्स में अपशिष्ट प्लास्टिक का उपयोग करने के लिए दिशा-निर्देश तैयार किए हैं।

सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय ने पाँच लाख से अधिक आबादी वाले शहरी क्षेत्रों के 50 किमी परिधि में आने वाले राष्ट्रीय राजमार्गों पर फुटपाथ के समय-समय पर नवीनीकरण कोट में अपशिष्ट प्लास्टिक के अनिवार्य उपयोग के लिए दिशा-निर्देश जारी किए हैं।

केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने राज्यसभा को यह भी बताया कि 2,507 किलोमीटर की लंबाई वाले सात एक्सप्रेस-वे का काम शुरू किया गया और उनमें से 440 किलोमीटर का काम पूरा हो चुका है।

मंत्री ने कहा कि हरित राष्ट्रीय राजमार्ग गलियारा परियोजना (जीएनएचसीपी) के तहत राजस्थान, हिमाचल प्रदेश, उत्तर प्रदेश और आंध्र प्रदेश से गुजरने वाले विभिन्न राष्ट्रीय राजमार्गों की 781 किलोमीटर लंबाई का उन्नयन किया जाएगा।

उन्होंने कहा, “कुल 781 किलोमीटर की लंबाई में से 287.96 किलोमीटर पर काम हुआ है, जिसकी सिविल लागत 1,664.44 करोड़ रुपये है। कार्य पूरा होने की निर्धारित तिथि दिसंबर 2025 है।”