समाचार
दिल्ली दंगे मामले में उमर खालिद से 11 लाख पेज के डाटा के साथ पुलिस करेगी पूछताछ

दिल्ली में हुए दंगों के मामले में गिरफ्तार जेएनयू के पूर्व छात्र नेता उमर खालिद को न्यायालय ने सोमवार (14 सितंबर) को 10 दिन की पुलिस हिरासत में भेज दिया। पुलिस द्वारा जुटाए गए 11 लाख पेज के डाटा के साथ अब उससे हिरासत में पूछताछ की जानी है।

नवभारत टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, पुलिस ने उमर खालिद की गिरफ्तारी गैर-कानूनी गतिविधियाँ (रोकथाम) अधिनियम के तहत की। पुलिस ने न्यायालय को बताया कि खालिद से दंगों से जुड़े 11 लाख पेज के डाटा के साथ सवाल-जवाब किए जाने हैं। सूत्रों के अनुसार, खालिद ने अब तक कई सवालों के जवाब नहीं दिए हैं।

दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने अपने वकील प्रसाद के जरिए न्यायालय को बताया कि खालिद से 11 लाख पेज के डाटा के साथ पूछताछ की जानी है। पुलिस ने खालिद को सोमवार को पूछताछ के बाद गिरफ्तार कर लिया था। सूत्रों की मानें तो चांदबाग क्षेत्र में उसका एक खुफिया कार्यालय था, जहाँ वह सह आरोपी खालिद सैफी और ताहिर हुसैन के साथ देर रात तक बैठक करता था।

कहा जा रहा है कि पूछताछ के दौरान खालिद यह नहीं बता पाया था कि वह क्यों लगातार उस खुफिया कार्यालय में जाता था। साथ ही मिली अलग-अलग चैट के बारे में भी वह कोई जानकारी नहीं दे पाया था।