समाचार
“मेरे रहते दुनिया का सबसे शक्तिशाली देश नहीं बन पाएगा चीन”- यूएस राष्ट्रपति बाइडन

संयुक्त राज्य अमेरिका (अमेरिका) के राष्ट्रपति जोसेफ बाइडन ने गुरुवार (25 मार्च) को कहा, “हम चीन को दुनिया में सबसे शक्तिशाली राष्ट्र बनने के लिए अमेरिका से आगे बढ़ने से रोकेंगे।”

टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के अनुसार, बाइडन ने कहा, “बराक ओबामा के शासनकाल में अमेरिकी उपाध्यक्ष के रूप में मैंने चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग के साथ कई घंटे बिताए थे, तब मुझे यह विश्वास हुआ था कि चीनी नेता का मानना है कि तानाशाही ही भविष्य की कुंजी है ना कि लोकतंत्र को बढ़ावा देना।”

व्हाइट हाउस में पत्रकारों से बात करते हुए बाइडन ने कहा, “दुनिया में सबसे अग्रणी देश, दुनिया का सबसे धनी देश और दुनिया का सबसे शक्तिशाली देश बनने का चीन का एक समग्र लक्ष्य है। मेरी नज़र में ऐसा नहीं होगा क्योंकि अमेरिका का विकास जारी रहेगा।”

यह गौर किया जाना चाहिए कि बाइडन के अनुसार, राष्ट्रपति बनने के बाद चीनी नेता के साथ अपनी दो घंटे की लंबी बातचीत में उन्होंने दबाव डाला था कि जब तक जिनपिंग और चीन मानवाधिकारों का घोर उल्लंघन करते रहेंगे, तब तक अमेरिका इसे दुनिया के सामने लाने के लिए निरंतर प्रयास करता रहेगा।

चीन के खिलाफ जो बाइडन की टिप्पणी ऐसे समय में आई है, जब दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय संबंधों में नई तरह की खटास आनी शुरू हो गई है।