समाचार
14वें भारत-जापान वार्षिक शिखर सम्मेलन की पूर्वोत्तर भारत दिसंबर में करेगा मेजबानी

भारत 14वें भारत-जापान वार्षिक शिखर सम्मेलन की मेजबानी करेगा और यह दिसंबर के मध्य में पूर्वोत्तर भारत में हो सकता है।

वियोन न्यूज की रिपोर्ट के अनुसार, शिखर सम्मेलन 15 से 17 दिसंबर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और प्रधानमंत्री शिंजो आबे के बीच होने की संभावना है। शिंजो जापान को सबसे लंबे समय तक सेवा देने वाले नेता हैं।

शिखर सम्मेलन का स्थान एक रणनीतिक उपक्रम है और जापान भी पूर्वोत्तर की अवसंरचनात्मक विकास में भारी निवेश कर चुका है।

नई दिल्ली और टोक्यो संबंध को विशेष रणनीतिक और वैश्विक साझेदारी के रूप में परिभाषित किया जा रहा है। 13,000 करोड़ रुपये का जापानी निवेश भारत के पूर्वोत्तर के लिए पहले से ही कतार में है।

इसके अलावा, पूर्वी एशियाई देश भी इस क्षेत्र की कई प्रमुख परियोजनाओं में शामिल हैं। इनमें गुवाहाटी जलापूर्ति परियोजना, असम में गुवाहाटी सीवेज परियोजना, पूर्वोत्तर सड़क नेटवर्क कनेक्टिविटी सुधार परियोजना आदि शामिल हैं।

दोनों देशों के नेता इस साल पहले ही एक-दूसरे से तीन बार मिल चुके हैं। इसकी शुरुआत जी20 शिखर सम्मेलन के समय ओसाका में हुई थी। इसके बाद जी-7 शिखर सम्मेलन के लिए फ्रांस के बियारिट्ज में और अंत में एक बैठक पूर्वी आर्थिक फोरम के दौरान व्लादिवोस्तोक में हुई थी।