समाचार
“चीन से भेजी गईं कोविड-19 एंटी बॉडी किट उपयोग के लायक नहीं”- परीक्षण प्रमुख

ब्रिटेन सरकार ने चीन से जो 35 लाख कोविड-19 एंटीबॉडी किट मंगवाई थीं, उनमें से कोई भी बड़े पैमाने पर उपयोग करने के लायक नहीं हैं। देश के परीक्षण प्रमुख प्रोफेसर जॉन न्यूटन ने इस बात को स्वीकारते हुए जानकारी दी।

द इंडिपेंडेंट की रिपोर्ट के अनुसार, किट मूल्याँकन चरण को पास करने में असमर्थ थी और केवल उन मरीजों में प्रतिरक्षा की पहचान कर सकती है, जो कोरोनावायरस से गंभीर रूप से संक्रमित हुए थे।

प्रोफेसर न्यूटन के हवाले से कहा गया, “वो बड़े पैमाने पर उपयोग किए जाने के लायक नहीं हैं।” स्वास्थ्य सचिव मैट हैनकॉक ने भी माना कि कुछ किटों ने सही से काम नहीं किया। हालाँकि, उन्होंने आशा की कि भविष्य में स्थितियाँ सुधरेंगी।

इस एंटी बॉडी परीक्षण को पहले ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने गेम चेंजर बताया था। इसके जरिए देश में बड़े पैमाने पर परीक्षण किया जा रहा था और लॉकडाउन को बंद करने की बात की जा रही थी।

इसकी सूचना पहले ही दी गई थी कि स्पेन ने कोविड-19 परीक्षण किट की पहली खेप वापस भेज दी थी। दरअसल, वो किटें वायरस के सकारात्मक मामलों का पता लगाने में असमर्थ साबित हो रही थीं। उनमें सटीकता का स्तर 30 प्रतिशत से भी कम था। चेक गणराज्य के पास भी चीन से भेजी गईं 80 प्रतिशत किटों ने गलत परिणाम दिए थे।