समाचार
सांसदों पर जनता की राय जानने के बाद भाजपा उतार सकती है 40% नए उम्मीदवार

लोकसभा चुनाव 2019 की तारीखों की घोषणा के बाद भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) उम्मीदवारों के चयन की प्रतिक्रिया को तेज़ी से बढ़ा रही है। पार्टी के ही एक वरिष्ठ नेता ने कहा कि पार्टी इस बार कई उम्मीदवारों के टिकट काट सकती है और 40 प्रतिशत से ज़्यादा सीटों पर नए चेहरों के आने कीउम्मीद की जा सकती है, अमर उजाला  ने रिपोर्ट किया।

यह फैसला अलगे कुछ दिनों में होने वाली केंद्रीय चुनाव समिति की बैठक में लिया जाएगा ताकि पार्टी के उमीदवारों को चुनाव प्रचार के लिए एक माह का समय मिल सके।

भाजपा ने अपने 272 सांसदों के प्रदर्शन का आंकलन करवाया है और वर्तमान सांसद, पूर्व सांसद, पूर्व विधायक, जिला और राज्य संगठन मंत्री से राय भी ली है। पार्टी ने निजी एजेंसियों से वर्तमान के सांसदों के प्रदर्शन पर और संभावित उम्मीदवारों पर तीन से चार सर्वेक्षण करवाए हैं, मौजूदा सांसदों में से आधे सांसदों की रिपोर्ट असंतोषजनक बताई जा रही है।

29 में से 12 राज्यों में भाजपा की सरकार है और बाकी के छह राज्यों में सहयोगी दलों की। कुछ प्रदेशों में राज्य सरकारों के खिलाफ नाराज़गी है और कुछ क्षेत्रों में लोग सांसदों के काम से नाखुश भी हैं।

पार्टी कुछ उम्मीदवारों के चुनाव क्षेत्र बदलने पर विचार कर रही है और कुछ उम्मीदवारों का टिकट काट कर उनकी जगह नए चेहरे लाने की योजना बना रही है। अकेले उत्तर प्रदेश में ही 68 सीटों में से 30 सीटों पर नए चेहरों के आने की उम्मीद है।