समाचार
कांग्रेस को राहत नहीं, सीबीआई जारी रखेगी बोफोर्स मामले में 64 करोड़ की जाँच

केंद्रीय जाँच ब्यूरो (सीबीआई) बोफोर्स दलाली के मामले की जाँच जारी रखेगी। यह मामला 1980 के दशक में स्वीडन की कंपनी से तोपों की खरीद में कथित रूप से 64 करोड़ रुपये की गड़बड़ी से जुड़ा है। जाँच एजेंसी ने दिल्ली की अदालत से आगे की जाँच की अनुमति के लिए दायर अर्जी वापस ले ली।

द ट्रिब्यूनल  की रिपोर्ट के अनुसार, सीबीआई ने अपने बयान में कहा, “माइकल हर्षमैन के कुछ खुलासों को देखते हुए सीबीआई ने मामले में आगे की जाँच के लिए निचली अदालत से अनुमति माँगी थी।”

इस पर आठ मई को अदालत ने कहा था, “सीबीआई के पास अपनी इच्छा से जाँच करने का स्वतंत्र शक्तियाँ हैं तो ऐसे आवेदन क्यों दायर किए जा रहे हैं।”

सीबीआई ने कहा, “कानूनी राय लेने के बाद हमने 16 मई को अदालत में एक आवेदन दायर किया। इसमें कहा गया कि सीआरपीसी की धारा 173 (8) के तहत आगे की जाँच करने के लिए अदालत की अनुमति की आवश्यकता नहीं है। इस संबंध में अदालत को पूर्व सूचना देना काफी होगा। अब बोफोर्स मामले की जाँच जारी रहेगी।”

सीबीआई की यह प्रतिक्रिया दिल्ली की एक अदालत द्वारा उसके आवेदन को हटाने के बाद आई। इसमें बोफोर्स मामले की आगे की जाँच की अनुमति माँगी गई थी।