समाचार
“राजमार्ग परियोजनाओं में चीनी कंपनियों को हिस्सा लेने की अनुमति नहीं”- नितिन गडकरी

चीन के 59 ऐप पर प्रतिबंध लगने के बाद बुधवार को केंद्रीय सड़क परिवहन राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने घोषणा की कि राजमार्ग परियोजनाओं में चीनी कंपनियों को भाग लेने की अनुमति नहीं दी जाएगी। अगर कोई चीनी कंपनी संयुक्त उद्यम के जरिए प्रवेश की कोशिश करेगी तो उसे रोक दिया जाएगा।

अमर उजाला की रिपोर्ट के अनुसार, नितिन गडकरी ने कहा, “सरकार यह भी सुनिश्चित करेगी कि सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यमों (एमएसएमई सेक्टर) में भी चीनी निवेशकों पर रोक लगाई जाए।”

केंद्रीय मंत्री ने कहा, “जल्द ही चीनी कंपनियों पर प्रतिबंध लगाने और भारतीय कंपनियों को राजमार्ग परियोजनाओं में भागीदार बनाने के लिए उनकी पात्रता मानदंड का विस्तार करने के नियमों में ढील देने की नीति बनाई जाएगी। नया निर्णय वर्तमान और भविष्य की निविदाओं में लागू किया जाएगा।”

गडकरी ने कहा, “प्रौद्योगिकी, अनुसंधान, परामर्श और अन्य कार्यों के उन्नयन के लिए एमएसएमई में विदेशी निवेश और संयुक्त उद्यमों को प्रोत्साहित किया जाएगा। हालाँकि, चीन को हम बिल्कुल भी तरजीह नहीं देंगे।”

भारतीय बंदरगाहों पर चीन की खेपों को रोकने के लिए उन्होंने कहा, “माल की कोई मनमानी रोक नहीं है। सरकार देश को आत्मनिर्भर बनाने को एमएसएमई और व्यवसायों की मदद के लिए कई तरह की पहल और सुधार शुरू कर रही है। चीन से आयात को हतोत्साहित किया जाएगा और देश आत्मनिर्भरता की दिशा में बड़ा कदम उठाएगा। “