समाचार
“पाकिस्तान पत्रकारों को वहाँ ले गया, जहाँ हमला हुआ ही नहीं”- निर्मला सितारमण

भारतीय रक्षा मंत्री निर्मला सितारमण ने कहा कि बालाकोट में भारतीय वायुसेना के हमले के बाद इस्लामाबाद से चुनिंदा पत्रकारों को घटनास्थल पर ले जाने में क्यों 40 दिन लग गए। दरअसल, पाकिस्तान द्वारा कई दिनों बाद पत्रकारों को घटनास्थल पर ले जाने पर रक्षा मंत्री ने सवाल खड़े किए हैं।

इंडियन एक्सप्रेस  की रिपोर्ट के अनुसार, निर्मला सितारमण ने कहा, “चुनिंदा पत्रकारों को लेने के लिए उन्हें 40 दिन की ज़रूरत पड़ गई। मेरे पास जानकारी है कि वह पत्रकारों को जिन मदरसे में ले गए, उस पर कभी हमला ही नहीं किया गया। वो जगह कभी हमले का हिस्सा भी नहीं थी। वो पत्रकारों को निर्देशित दौरे पर ले गए होंगे, जहाँ पर आत्मघाती हमलावरों को प्रशिक्षित किया गया हो। वह जगह पत्रकारों को सिर्फ बाहर से दिखाई गई। उसके अंदर क्या हुआ इसके जवाब नहीं दिए गए।”

शांति वार्ता पर पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान के बयान के सवाल पर रक्षा मंत्री ने कहा, “विपक्ष हमेशा इन बयानों से उत्साहित होता है। कांग्रेस को यह समझाने की जरूरत है कि मोदी को हटाने के लिए पाकिस्तान में मणिशंकर अय्यर की अपील क्या हुई।”

उन्होंने कहा, “पुलवामा में हुए आतंकी हमले के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सर्जिकल स्ट्राइक का आदेश दिया था, जो 26/11 हमले के बाद तुरंत किया जाना चाहिए था। प्रधानमंत्री ने साफतौर पर कहा है कि हम पाकिस्तान से होने वाले आतंकवाद को अब बर्दाश्त नहीं करेंगे।”