समाचार
राष्ट्रपति ने खारिज की दया याचिका, निर्भया के दोषियों की शुक्रवार सुबह फांसी तय

निर्भया मामले में दोषी ठहराए गए चार दोषियों में से एक दोषी पवन गुप्ता की ओर से फांसी से बचने के लिए दायर की गई उपचारात्मक याचिका को सर्वोच्च न्यायालय ने खारिज कर दिया है। अब शुक्रवार (20 मार्च) को 5.30 बजे दोषियों को सजा दी जानी तय है। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने भी पवन गुप्ता और अक्षय कुमार सिंह द्वारा दायर की गई दूसरी दया याचिका पर विचार करने से इनकार कर दिया है।

एएनआई की रिपोर्ट के अनुसार, दिल्ली उच्च न्यायालय ने यह भी निर्णय सुनाया था कि दोषियों के लिए कोई कानूनी उपाय किसी अदालत के समक्ष लंबित नहीं हैं। दोषियों ने खुद को बचाने के लिए अपने सामने उपलब्ध सभी संवैधानिक विकल्पों को भी इस्तेमाल करके समाप्त कर लिया है।

निर्भया मामले के चार दोषी लंबित कानूनी उपायों के बहाने फांसी को टालने की कोशिश कर रहे हैं। सार्वजनिक अभियोजक इरफान अहमद ने अदालत को बताया था, “कोई कानूनी उपाय अब लंबित नहीं हैं। पवन और अक्षय की दूसरी दया याचिका पर भी राष्ट्रपति ने विचार करने से मना कर दिया है। ”

उन्होंने कहा कि राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने पहली दया याचिका पर विचार किया था। हालाँकि, बाद में उन्होंने इसे खारिज कर दिया था।