समाचार
“कश्मीर की आज़ादी मांगने वाले पर प्रतिंबध”, गृह मंत्रालय का संगठन पर निर्णय

केंद्रीय गृह मंत्रालय ने तहरीक-उल-मुजाहिदीन पर प्रतिबंध लगा दिया है। यह जम्मू-कश्मीर आधारित संगठन है, जो कि आतंकी कार्यों में शामिल था, एनडीटीवी  ने रिपोर्ट किया।

रिपोर्ट के अनुसार, गृह मंत्रालय ने एक अधिसूचना में कहा कि केंद्र सरकार मानती है कि यह संगठन भारत में होने वाले बहुत से आंतकी कार्यों में शामिल था और किए भी हैं, और इसके सदस्यों को विदेश से वित्तीय सहायता मिलती है।

आधिसूचना में कहा गया कि मुजाहिदीन 1990 में कश्मीर को आज़ादी दिलाने के लिए अस्तित्व में आया और वह यह काम आज भी कर रहा है पर आतंक के ज़रिये।

“इसलिए, ग़ैरकानूनी गतिविधि अधिनियम, 1967 की धारा 35 की उप-धारा (एक) के खंड द्वारा प्रदत्त शक्तियों का प्रयोग कर केंद्र सरकार ने यहाँ पहली अनुसूची में निम्नलिखित संशोधन करती है। उक्त अधिनियम की पहली अनुसूची में, क्रम संख्या 40 और उसके बाद संबंधित प्रविष्टियों में, निम्नलिखित क्रमांक संख्या और प्रविष्टियाँ सम्मिलित की जाएँगी, अर्थात- 41। मुजाहिदीन और इसकी सभी गतिविधियाँ”, अधिसूचना में उल्लेखित था।

अधिसूचना में कहा गया कि यह आतंकी संगठन बहुत सारे आतंकी हमलों को अंजाम दे चुका है और बाकी के विध्वंसक कार्य जैसे ग्रेनेड हमले, हथियार छीनना और हिज्ब-उल-मुजाहिदीन और लश्कर-ए-तैयबा जैसे आतंकी संगठनों को वित्तीय और रसद सहायता प्रदान करता है।