समाचार
“सचिन पायलट ने बहुत गंदा खेल खेला, वह निकम्मा और नकारा है”- अशोक गहलोत

राजस्थान में जारी राजनीतिक उथल-पुथल के बीच मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने सोमवार (20 जुलाई) को अपने राजनीतिक प्रतिद्वंद्वी सचिन पायलट पर आरोप लगाते हुए कहा कि उन्होंने बहुत गंदा खेल खेला और अपनी ही सरकार को गिराने की कोशिश की। इसके बाद उन्होंने पायलट को निकम्मा और नकारा करार देते हुए सत्यमेव जयते कहा और भाषण समाप्त कर दिया।

पिछले एक हफ्ते में यह दूसरी बार था, जब गहलोत ने पायलट के खिलाफ मोर्चा खोला है। उन्होंने हाल ही में सचिन पायलट को उपमुख्यमंत्री और प्रदेश कांग्रेस कमेटी (पीसीसी) प्रमुख के पद से बर्खास्त किया था।

संवाददाताओं से बात करते हुए गहलोत ने कहा, “पार्टी में पायलट के लिए सम्मान की कोई कमी नहीं थी लेकिन उन्होंने बहुत गंदा खेल खेला और भाजपा (भारतीय जनता पार्टी) को खुश करने की साजिश रची।”

गहलोत ने उनके वकीलों के खर्च पर भी सवाल उठाया और कहा, “हरीश साल्वे उनका केस लड़ रहे हैं। इतना पैसा उनके पास कहाँ से आ रहा है? देश के अंदर यह अराजकता बताई जा रही है। इन सबके बीच, पायलट का चेहरा और चरित्र उजागर हो गया है। हमारे विधायकों को गुरुग्राम में बंधक बनाकर रखा गया था।”

उन्होंने आगे कहा, “हम जानते थे ये निकम्मा है, नकारा है, कोई काम नहीं कर रहा है। खाली लोगों को लड़वा रहा है। मैं यहाँ कोई सब्जी बेचने नहीं आया हूँ। पायलट खेमे के कुछ विधायक अब कह रहे हैं कि उनके मोबाइल फोन जबरदस्ती छीन लिए गए थे और वे पार्टी की वापसी करना चाहते हैं।”

सत्यमेव जयते कहते हुए अपना संबोधन समाप्त करने से पहले उन्होंने कहा, “आपने इतिहास में कभी नहीं सुना होगा कि किसी पार्टी का प्रदेश प्रमुख अपनी ही सरकार को गिराने में व्यस्त हो।”