समाचार
कोवैक्सीन कोविड के अल्फा और डेल्टा प्रकार पर बेहद प्रभावशाली सिद्ध हुई- अमेरिका

अमेरिका के राष्ट्रीय स्वास्थ्य संस्थान (एनआईएच) ने कहा कि कोविड-19 के अल्फा और डेल्टा प्रकार पर भारत बायोटेक द्वारा विकसित भारत की स्वदेशी कोवैक्सीन बेहद प्रभावी सिद्ध हुई है।

दैनिक जागरण की रिपोर्ट के अनुसार, एनआईएच ने कहा, “कोवैक्सीन लगवाने वालों के रक्त सीरम के दो शोध परिणाम पुष्टि करते हैं कि यह टीका एंटीबॉडी विकसित करता है, जो सार्स-कोव-2 के बी.1.1.7 (अल्फा) और बी.1.617 (डेल्टा) स्वरूपों को प्रभावी तरीके से निष्क्रिय करता है।”

अमेरिकी स्वास्थ्य अनुसंधान संस्थान ने कहा कि हमारी वित्तीय सहायता से विकसित एक सहायक औषधि ने अत्यधिक प्रभावशाली कोवैक्सीन की सफलता में योगदान दिया है। यह अब तक भारत सहित अन्य जगहों पर करीब 2.50 करोड़ लोगों को लगाई जा चुकी है।

एनआईएच ने बताया कि कोवैक्सीन में सार्स-सीओवी-2 के एक अक्षम रूप को सम्मिलित किया गया, जो अपनी प्रति नहीं बना सकता लेकिन वायरस के विरुद्ध एंटीबॉडी बनाने के लिए प्रतिरक्षा प्रणाली को सक्रिय करता है। वैक्सीन के दूसरे चरण के प्रकाशित परिणाम बताते हैं कि यह सुरक्षित है।

संस्थान ने कहा, “तीसरे चरण के परीक्षण के अप्रत्याशित अंतरिम परिणाम से संकेत मिलता है कि यह टीका लक्षण वाले संक्रमण के विरुद्ध 78 प्रतिशत प्रभावशाली है। यह गंभीर कोरोना संक्रमण के विरुद्ध 100 प्रतिशत प्रभावशाली और बिना लक्षण वाले संक्रमण के खिलाफ 70 प्रतिशत प्रभावशाली है।”