समाचार
अगला शाह फैसल? जम्मू-कश्मीर में प्रतिबंधों को लेकर केरल के आईएएस का इस्तीफा

केरल के एक आईएएस को बिजली, शहरी विकास, शहर और देश नियोजन सचिव के रूप में दादरा और नगर हवेली में नियुक्त किया गया था। उन्होंने अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता वापस पाने के लिए गृह सचिव को अपना इस्तीफा दे दिया। उन्होंने जम्मू-कश्मीर में लगाए गए प्रतिबंधों पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सरकार की आलोचना की।

द हिंदू की रिपोर्ट के अनुसार, केरल के कोट्टायम के रहने वाले आईएएस कन्नन गोपीनाथन ने पिछले साल केरल में बाढ़ के दौरान बचाव और राहत प्रयासों में हिस्सा लेते हुए सुर्खियाँ बटोरी थीं।

गोपीनाथन ने दावा किया कि उन्होंने “अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता को वापस पाने” के लिए यह निर्णय लिया है। उन्होंने धारा 370 को समाप्त करने और जम्मू-कश्मीर के लोगों पर लगाए गए प्रतिबंधों को लेकर मोदी सरकार पर निशाना साधा।

गोपीनाथन ने कहा, “मैं वास्तव में देश में जो हो रहा है, उससे हैरान हूँ। हमारी आबादी के एक बड़े हिस्से को उनके मौलिक अधिकारों से वंचित कर दिया गया है। मैं यह सोचकर सरकारी सेवा में आया था, ताकि जनता की आवाज़ बन सकूँ लेकिन हम आखिरी में अपनी ही आवाज़ को खुद से दूर ले गए।

गोपीनाथन के इस कदम के बाद उनके और पूर्व यूपीएससी टॉपर शाह फैसल के बीच कई समानताएँ नज़र आई हैं। फैसल ने हाल ही में राजनीति में कदम रखने के लिए सिविल सेवाओं को छोड़ दिया था। इसके बाद उन्होंने अनुच्छेद 370 को समाप्त करने पर “कश्मीरियों से अपमान का बदला लेने” जैसी बातें कहकर कई विवादों को जन्म दिया।