समाचार
चीन के हैकर समूह रेडइको ने गलवान हिंसा के बाद की थी मुंबई की बिजली गुल- रिपोर्ट

गलवान में भारत से हुई हिंसक झड़प के बाद चीन के हैकरों ने गत वर्ष 12 अक्टूबर को मुंबई की विद्युत आपूर्ति के सिस्टम पर साइबर हमला किया था। इसका खुलासा न्यूयॉर्क टाइम्स ने अपनी एक रिपोर्ट में किया है। यह हमला चीन के रेडइको समूह ने किया था।

दैनिक भास्कर की रिपोर्ट के अनुसार, इसमें कहा गया है कि चीनी हैकरों द्वारा किया गया साइबर हमला भारत को चुप रहने के संदेश के साथ था। सीमा पर जब चीन और भारत के सैनिक आमने सामने थे, तब चीनी हैकरों ने मॉलवेयर को देश में बिजली की आपूर्ति करने वाले सिस्टम में डाला था। महाराष्ट्र साइबर सेल की शुरुआती जाँच में इसका खुलासा भी हुआ था।

महाराष्ट्र के ऊर्जा मंत्री नितिन राउत ने कहा, ”न्यूयॉर्क टाइम्स के दावे में सच्चाई है। हमने इसकी जाँच के लिए तीन सदस्यों की कमेटी का गठन किया था। आज शाम तक हमें साइबर डिपार्टमेंट से विस्तृत रिपोर्ट मिल जाएगी।”

रिपोर्ट में कहा गया कि साइबर स्पेस कंपनी रिकॉर्डेड फ्यूचर ने घटना की मॉलवेयर ट्रेसिंग की थी। कंपनी के सीईओ स्टुअर्ट सोलोमन के हवाले से कहा गया कि भारतीय विद्युत उत्पादन और ट्रांसमिशन इंफ्रास्ट्रक्चर में लगभग 10 से अधिक नोड्स से प्रवेश करने के लिए एडवांस साइबर तकनीक का उपयोग हुआ था।

एक अधिकारी ने कहा कि अधिकतर हमले और मॉलवेयर का कंट्रोल सर्वर चीन से मिला है। सीमा पर झड़प के बाद प्रतिदिन 10,000 साइबर हमलों के प्रयास का पता लगाया गया है। अभी यह थोड़े कम हुए पर हम सतर्क हैं। संभावित साइबर हमलों और संवेदनशील सरकारी वेबसाइट्स व पोर्टल्स के सुरक्षा पहलुओं पर एक रिपोर्ट भी इंडियन कम्प्यूटर इमरजेंसी रिस्पॉन्स टीम को दी गई है।