समाचार
चुनाव लड़ने के लिए विदेशी संपत्ति समेत देना होगा 5 वर्ष के आयकर रिटर्न का ब्यौरा

कानून और न्याय मंत्रालय ने 26 जनवरी (मंगलवार) को एक अधिसूचना जारी की जिसमें निर्देश दिया गया कि चुनाव संचालन (संशोधन) नियम 2019 के तहत इस साल होने वाले लोकसभा चुनावों में जो प्रत्याशी चुनाव लड़ेंगे उन्हें अपने पिछले पाँच साल तक के आयकर रिटर्न का लेख-जोखा देना पड़ेगा और साथ ही जितनी उनकी विदेशी संपत्ति होगी उनकी भी जानकारी उन्हें देनी पड़ेगी,लाइव लॉ  ने रिपोर्ट किया।

यह नया अधिनियम जन-प्रतिनिधित्व अधिनियम 1951 की धारा 33 और 169 के तहत तैयार किया गया है। अब फॉर्म 26 के अंदर प्रत्याशी को अपनी शैक्षिक योग्यता, संपत्ति, देनदारियाँ इत्यादि भरनी पड़ेगी।

पहले इस नियम के अनुसार प्रत्याशी को सिर्फ पिछले साल के आयकर रिटर्न की जानकारी देनी पड़ती थी, फिर वह पति या पत्नी में से किसी की भी हो सकती थी।

संशोधित नियमों में विदेशी संपत्ति से अभिप्राय है कि किसी भी विदेशी बैंक या संस्था में प्रत्याशी ने जो कुछ जमा किया है और जहाँ निवेश किया है इन सब की जानकारी और साथ ही विदेशी देशों में संपत्ति और देनदारियों की जानकारी।