समाचार
केपी शर्मा ओली और दहल प्रचंड के बढ़े गतिरोध में नेपाल प्रधानमंत्री से इस्तीफे की माँग

सत्ता संघर्ष में प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली और पार्टी सह अध्यक्ष पुष्प कमल दहल प्रचंड आमने-सामने आ गए। पार्टी की स्थाई समिति की बैठक में प्रचंड और अन्य वरिष्ठ नेता माधव नेपाल, झाला नाथ खनाल व बामदेव गौतम ने कोविड-19 से निपटने सहित विभिन्न मुद्दों पर प्रधानमंत्री की विफलता का हवाला देकर उनका इस्तीफा मांग लिया।

दैनिक जागरण की रिपोर्ट के अनुसार, भारत के साथ सीमा विवाद और संसद में नया नक्शा पेश करने के बाद सत्तारूढ़ नेपाली कम्युनिस्ट पार्टी के बीच आपसी घमासान बढ़ गया। आरोप लगाया गया कि सरकार भारत के साथ सीमा विवाद पर बातचीत करने में विफल रही है।

गत शनिवार की बैठक में 48 सदस्यीय स्थायी समिति के ज्यादातर सदस्यों ने इस मुद्दे को उठाया था। बैठक में प्रचंड ने साफ कहा था, “पार्टी के अध्यक्ष पद और प्रधानमंत्री पद में से ओली को कोई एक पद चुनना पड़ेगा। सरकार और पार्टी के बीच समन्वय का अभाव है।”

बता दें कि ओली सरकार जिस तरीके से कोविड-19 संकट से निपट रही है, उससे दोनों नेताओं के बीच मतभेद उभर रहा है। केपी शर्मा ओली प्रधानमंत्री के साथ एनसीपी के अध्यक्ष भी हैं। इसी मतभेद के चलते ओली पहले दो दिन की बैठक में शामिल नहीं हुए।

नेपाल के प्रधानमंत्री ओली ने बीते दिनों दावा किया था कि भारतीय क्षेत्रों को देश के प्रमुख हिस्सों में शामिल करने के बाद उन्हें हटाने की कोशिश की जा रही है। काठमांडू के एक होटल में मुझे हटाने के लिए बैठकें हो रही हैं और इसमें एक दूतावास भी सक्रिय है।