समाचार
एनसीबी ने सुशांत मौत में 12,000 पन्नों का आरोप-पत्र दायर किया, रिया सहित 33 आरोपी

सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले में ड्रग के दृष्टिकोण से जाँच कर रही नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (एनसीबी) ने शुक्रवार (5 मार्च) को एनडीपीएस विशेष न्यायालय में 12,000 पन्नों का आरोप-पत्र दाखिल किया। इसमें रिया चक्रवर्ती सहित 33 लोगों को आरोपी बनाया गया है।

हिंदुस्तान लाइव की रिपोर्ट के अनुसार, आरोप-पत्र के माध्यम से जाँच एजेंसी ने सभी बयानों और निष्कर्षों को न्यायालय में प्रस्तुत किया है। अब इसे सत्यापित किया जाएगा और फिर आरोपी को न्यायालय के सामने पेश होने को कहा जाएगा। डिजिटल फॉर्मेट में 50,000 पेज का आरोप-पत्र दाखिल किया गया है।

आरोप-पत्र में रिया के अलावा उनके करीबियों और कई ड्रग पैडलर्स के नाम भी आरोपी के तौर पर शामिल किए गए हैं। एनसीबी ने इसे ड्रग्स बरामदगी, इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों की रिपोर्ट, फॉरेंसिक रिपोर्ट और गवाहों के बयान के आधार पर तैयार किया है।

बता दें कि 14 जून को सुशांत सिंह राजपूत ने कथित तौर पर फाँसी लगाकर आत्महत्या कर ली थी। इसकी जाँच सीबीआई, एनसीबी और ईडी कर रही हैं। सितंबर में की गई पहली गिरफ्तारी के आधार पर आरोप-पत्र दाखिल करने के लिए एनसीबी के पास 6 महीने का समय था।

ईडी की जाँच में रिया, उनके भाई शौविक व सुशांत सिंह राजपूत के कर्मचारियों के निजी वॉट्सैप चैट में ड्रग्स की बातचीत सामने आने के बाद एनसीबी ने अगस्त में मामला दर्ज किया था। इसके बाद ड्रग के दृष्टिकोण से जाँच शुरू कर दी गई थी।