समाचार
“अयोध्या मामले में एआईएमपीएलबी और जमीयत पैदा कर रहे टकराव का माहौल”- नकवी

केंद्रीय अल्पसंख्यक कार्य मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड (एआईएमपीएलबी) और जमीयत उलेमा-ए-हिंद पर निशाना साधते हुए कहा, “अयोध्या मामले में पुनर्विचार याचिका की बात करने वाले टकराव का माहौल पैदा करने की कोशिश कर रहे हैं। समाज इसे स्वीकार नहीं करेगा।”

अमर उजाला की रिपोर्ट के अनुसार, केंद्रीय मंत्री ने कहा, “सर्वोच्च न्यायालय के निर्णय के बाद अयोध्या मामला खत्म हो गया है। इसे फिर से उलझाने की कोशिश नहीं होनी चाहिए। अदालत ने सर्वसम्मति से मामले का हल दिया है।”

उन्होंने कहा, “मुस्लिम समाज के लिए सबसे अहम मुद्दा बाबरी का नहीं बल्कि शिक्षा एवं सामाजिक सशक्तीकरण में बराबरी का है। कुछ अलग-थलग आवाजें हैं, जो पूरे समाज की नहीं हैं। हमें इसे और उलझाना नहीं चाहिए।”

मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा, अगर पर्सनल लॉ बोर्ड और जमीयत इतने ही गंभीर थे तो फिर पहले ही सर्वोच्च न्यायालय के कहने पर अयोध्या मसले पर समझौते के लिए सहमत क्यों नहीं हुए? ये लोग बिखराव और टकराव का माहौल बनाने की कोशिश में हैं। अगर कुछ लोगों को इस फैसले के बाद देश में दिखी एकता हजम नहीं हो रही है तो दुखद है।