समाचार
नमामि गंगे को मिला पब्लिक वॉटर एजेंसी ऑफ ईयर पुरस्कार, सरकार के प्रयासों का फल

ग्लोबल वॉटर समिट में नेशनल डेमोक्रेटिक अलायंस (एनडीए) सरकार के प्रमुख कार्यक्रम नमामि गंगे को लंदन में पब्लिक वॉटर एजेंसी ऑफ ईयर पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

इंडियन एक्स्प्रेस  की रिपोर्ट के अनुसार, ग्लोबल वॉटर समिट के दौरान यह पुरस्कार दिया जाता है। यह कार्यक्रम जल क्षेत्र में दुनिया के सबसे बड़े बिजनेस कॉन्फ्रेंस में से एक है। यह अवॉर्ड पूरे अंतर्राष्ट्रीय जल उद्योग में उत्कृष्टता को पहचानकर दिया जाता है।

केंद्रीय जल संसाधन, नदी विकास और गंगा कायाकल्प मंत्रालय के तहत आने वाले नेशनल मिशन फॉर क्लीनिंग गंगा (एनएमसीजी) के मुताबिक, यह साल का प्रमुख जल उद्योग कार्यक्रम है। यह पानी, अपशिष्ट जल प्रबंधन (वेस्ट वॉटर मैनेजमेंट) और विलवणीकरण क्षेत्रों में उन पहलों को पुरस्कृत करते हैं, जो लोगों के जीवन में उल्लेखनीय सुधार लाते हैं।

नमामि गंगे कार्यक्रम एक एकीकृत संरक्षण मिशन है। इसे 2014 में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 20,000 करोड़ रुपये के बजट के साथ शुरू किया था। इसमें राष्ट्रीय नदी गंगा के प्रदूषण, संरक्षण और कायाकल्प का काम सौंपा गया है।

हाल ही में केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने कहा था, “पिछली सरकार ने 1985 से 2014 के बीच गंगा सफाई कार्यक्रमों पर 4000 करोड़ रुपये से कम खर्च किए थे। राजग सरकार ने चार साल में 244 करोड़ रुपये अधिक 254 परियोजनाओं को मंजूरी दी है।”