समाचार
क्या नमामि गंगे को मिला ‘भागीरथ’? मार्च तक गंगा का होगा 80 प्रतिशत शुद्धिकरण

एक पुस्तक विमोचन समारोह के दौरान दिनांक 6 दिसंबर को, न्यू इंडियन एक्प्रेस  की रिपोर्ट के अनुसार, केंद्रीय जल संसाधन मंत्री नितिन गडकरी ने कहा कि उन्हें आशा है कि अगले वर्ष मार्च तक गंगा नदी 70-80 प्रतिशत तक स्वच्छ हो जाएगी तथा मार्च 2020 तक पूर्ण रूप से स्वच्छ हो जाएगी।
उन्होंने कहा, “मार्च 2019 तक गंगा 70-80 प्रतिशत तक स्वच्छ हो जाएगी तथा मुझे आशा है कि मार्च 2020 तक पूर्णतया स्वच्छ हो जाएगी।”
उन्होंने यह भी कहा कि गंगा नदी की स्वच्छता हेतु 26000 करोड़ रुपए की धन राशि खर्च की जाएगी।

जल संसाधन मंत्रालय के अतिरिक्त सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय तथा पोत मंत्रालय का कार्यभार सँभालने वाले गडकरी से वर्ष की दूसरी तिमाही में सकल घरेलू उत्पाद की दर में गिरावट पर भी प्रश्न किए गए। गौरतलब है कि देश की सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) दर वर्ष की पहली तिमाही में 8.2 प्रतिशत थी जो दूसरी तिमाही में घटकर 7.1 प्रतिशत हो गई है। इस पर गडकरी ने कहा कि इसके बावजूद भी भारत सर्वाधिक गति से बढ़ने वाली अर्थव्यवस्था है।

उन्होंने यह भी कहा कि सड़कों की आधारिक संरचना को और अधिक बेहतर बनाने की आवश्यकता है। उनके कार्यकाल में सड़कों का निर्माण 28 किलोमीटर प्रतिदिन की दर से हो रहा है जो कि पहले 2 किलोमीटर प्रतिदिन की दर से होता था। उन्होंने देशभर में 12 नए एक्सप्रेसवे के निर्माण कार्य चलने की बात भी कही।

सांस्कृतिक ह्रास को रोकने के लिए स्वराज्य हमेशा प्रयास करता रहा है और इसी प्रयास का अंश है हमारा विरासत कार्यक्रम। अपनी धरोहर के संरक्षण के लिए हमारे प्रयासों को आर्थिक सहायता की आवश्यकता है। इस महायज्ञ में अपनी ओर से आहुति देकर कृपया हमारे संघर्ष को सुदृढ़ करें।